भूलकर भी ना रखें बच्चों ये नाम, परेशान रहेगा बच्चा…

लोग आमतौर पर अपने बच्चों के नाम कर्ण, अर्जुन,कृष्ण,अभिमन्यु,सुरभि,सीता जैसा नाम रखना पसंद करते हैं लेकिन पुराणों के कई चरित्र ऐसे भी हैं जो प्रसिद्ध, साहसी और भगवान के अन्नत भक्त होने के बावजूद भी माता-पिता उनका नाम अपने बच्चों को देने से डरते है।

विभीषण :  यू तो विभीषण का अर्थ जिसे कभी क्रोध ना आता हो लेकिन फिर भी विभीषण को घर का भेदी भी कहाँ जाता हैं इसलिए नाम चरण से बिल्कुल बाहर हो चुका हैं।

द्रोपदी :  राजकुमारी होने के बावजूद भी द्रोपदी को पाँचों पांडवों से विवाह करना पड़ा था इसी के चलते लोगों को ये नाम रखना बिल्कुल पसंद नहीं हैं।

मंदोदरी : ग्रथों के अनुसार मंदोदरी एक बुद्धिमान, दायूलु और गुणवत्ता स्त्री को कहाँ जाता हैं लेकिन रावण की पत्नी होने की वजह से कोई भी अपनी बेटी का नाम मंदोदरी नहीं रखना चाहता हैं।

सुग्रीव : सुग्रीव यू तो भगवान राम का परम भक्त था लेकिन उसने अपने सगे भाई से राज्य लड़कर हासिल किया था और भगवान राम से उसकी मृत्यु भी करायी गयी थी इसलिए ये नाम रखने से लोग बचते हैं।

अश्वत्थामा : हालांकि अश्वत्थामा एक बहादुर योध्दा था लेकिन जीवनभर उसने गलत कर्म किये थे जिसके चलते भगवान कृष्ण ने उसे सदियों तक पीड़ा झेलना का शार्प दिया था अब कोई भी अपने बच्चे का नाम इस नाम से नहीं रखता।

गांधारी : गांधारी भी बेहद बूढ़ी और महान शक्ति वाली महिला थी कौरव वंश में विवाह के बाद उसे दुखों का सामना करना पड़ा उसके सभी पुत्रों की मृत्यु हो गयी थी इसलिए अब कोई भी गांधारी नाम नहीं रखता।

कैकेयी : कैकेयी राज परिवार से सम्बन्धं रखती थी लेकिन नौकरनी के कहने पर उसने अपने ही परिवार में भेदभाव किया और दुखों का कारण बनी इसलिए अब कोई ये नाम नहीं रखता।

दुर्योधन : दुर्योधन बलवान और महायोद्धा था लेकिन अपने लालच के चलते उसने अपने ही परिवार का नाश कर दिया था इसलिए अब इस नाम को भी शुभ नहीं माना जाता।

मन्थरा : मन्थरा के वजह से भगवान राम को लक्ष्मण और देवी सीता सहेत 14 साल बनवास काटना पड़ा था इसी के चलते अब कोई भी अपनी बेटी का नाम मन्थरा नहीं रखता।

शकुनी :शकुनी चतुर सलाहकार था लेकिन अपनी घृणा और प्रतिशोध जैसे जिद्दो के चलते उसने कूलवंश का नाश कर दिया था जिसके वजह से इस नाम को बिल्कुल अशुभ माना  जाता हैं।

Facebook Comments