एम्स के डॉक्टरों ने खोजा कैंसर का इलाज, अब ऐसे होगा उपचार

दुनिया में कैंसर को सबसे लाइलाज लोग माना जाता है, लेकिन अब एम्स के डॉक्टरों ने कैंसर के इलाज करने के लिए एक नई तकनीक विकसित की है। यह पेट से जुड़े कैंसर में ज्यादा प्रभावी साबित होगी।

इस तकनीक के तहत सर्जरी के दौरान कीमोथेरपी वाली दवाईयों को गर्म करके सीधे पेट में डाल दिया जाएगा। अभी तक कीमोथेरपी की दवाईयों को सर्जरी के बाद नसों में डाला जाता था ताकि कैंसर के सेल्स को खत्म किया जा सके। इस नई तकनीक के जरिए डॉक्टर अब कीमोथेरपी की दवाइयों का एक बड़ा डोज मरीज के शरीर तक पहुंचा पाएंगे।

एम्स में HIPEC तकनीक का इस्तेमाल पहली बार साल 2013 में 35 साल की एक महिला पर किया गया था जो पेरिटनील कैंसर से पीड़ित थी। कीमोथेरपी की दवाइयों को मैन्युअली गर्म कर सर्जरी के तुरंत बाद मरीज के शरीर में हृदय और फेफड़ों की मशीन के जरिए पहुंचाया गया। वह महिला आज भी जीवित है। अचानक मिली उस सफलता के बाद इस तकनीक को ट्रायल बेसिस पर करीब 100 मरीजों पर इस्तेमाल किया गया।

इस तकनीक के इस्तेमाल से सर्जरी के दौरान होने वाली मौतों का आंकड़ा 10 प्रतिशत से घटकर 2-3 प्रतिशत पर आ गया है। साथ ही इस नई तकनीक के इस्तेमाल से मरीजों के ओवरवॉल बचने की संभावना भी 30 से 40 प्रतिशत तक बढ़ गई है।

Facebook Comments