फिल्म फ्राइ डे के लिए गोविंदा ने की है तगड़ी मेहनत…..

‘फ्राई डे’ के निर्देशक अभिषेक डोंगरा को इस बात का विश्वास है कि ‘फ्राई डे’ के साथ गोविंदा के बुरे वक्त का अंत हो जाएगा। क्योंकि इसमें उनकी हर चीज को डालने डालने की कोशिश की गई है जिसके लिए गोविंदा को जाना जाता है। लोग जिस रूप में गोविंदा को पसंद करते हैं उन्हें उसी रूप में दिखाने की कोशिश की गई है। 

पिछले दिनों गोविंदा की अपकमिंग फिल्म फ्राइ डे का पोस्टर रिलीज हुआ था। इस फिल्म के पोस्टर देख साफ हो गया कि फिल्म में उनका रोल लोगों को काफी पसंद आने वाला है। साथ ही उन्होंने इस फिल्म के लिए काफी मेहनत की है।

 

बता दें कि गोविंदा पिछले कुछ सालों से खराब वक्त से गुजर रहे थे। उनकी हाल ही रिलीज हुई फिल्म‘आ गया हीरो’ ज्यादा अच्छी नहीं चली। इसके पहले की भी फिल्मों में वो कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए। लेकिन इसका जिम्मेदार वो खुद को नहीं बल्कि उनके बदले हुए रूप को ठहराते हैं। दिसंबर में 54 वर्ष के हुए गोविंदा की फिल्में नहीं चल पा रही थीं। इस पर निर्देशक ने कहा, “ऐसा इसलिए है क्योंकि कुछ फिल्म-मेकर गोविंदाजी को उनकी छवि के खिलाफ दिखाना चाहते थे…जो आगरा जाकर ताजमहल में न जाने जैसा है।”

आपको बता दें कि फिल्म ‘फ्राई डे’ में गोविंदा को दिल्ली में एक थियेटर पर्सनैलिटी के रूप में कास्ट किया गया है। डोंगरा ने कहा, “ये ऐसा था, जो उन्होंने कभी नहीं किया और ये गोविंदा के नियमों के खिलाफ भी था, क्योंकि उनके प्रशंसक उन्हें उसी अंदाज में देखकर बड़े हुए हैं।” उन्होंने कहा, “जब तक मैं याद रख सकता हूं तब तक मैं गोविंदा का प्रशंसक रहूंगा। मैं अपने संवादों और हास्य की नकल करता रहा हूं। मैंने फैसला किया था कि एक दिन मैं गोविंदा के साथ काम करूंगा। मेरी ‘फ्राई डे’ में, दर्शकों को गोविंदा का वहीं अंदाज दिखेगा, जिसके लिए वह पहचाने जाते हैं।

 

Facebook Comments