जानें क्या ना खाएं, अस्थमा से राहत दिलाते हैं ताजे फल-सब्जियां

जब मौसम में बदलाव होता है तो अस्थमा के पीड़ितों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अस्थमा एक स्वास संबंधी बीमारी है, जो अस्वस्थ फेफड़ों और एलर्जी के कारण गंभीर रूप ले लेती है। मगर स्वस्थ खानपान और देखभाल के सहारे इस समस्या की रोकथाम की जा सकता है। पेरिस विश्वविद्यालय द्वारा किये गए शोध में पाया गया है कि ताजे फल-सब्जियों का सेवन करने से अस्थमा की समस्या में आराम मिलता है।

अस्थमा के संकेत
कई शोध में यह बात सामने आई है कि अस्थमा के रोगियों को सांस लेने में तकलीफ होती है। इसके साथ ही सीने में दर्द और खांसी जैसी समस्याएं भी होती है। हालांकि हर मामले में ये संकेत थोड़े अलग हो सकते हैं।

क्या ना खाएं
शोधकर्ताओं के अनुसार अस्थाम से ग्रस्त लोगों को मीट, नमक और मीठे का ज्यादा सेवन करने से बचना चाहिए। इससे बीमारी गंभीर रूप ले सकती है। साथ ही धूम्रपान और शराब से भी दूर रहना चाहिए और मौसम में बदलाव होने पर अपनी पर्याप्त देखभाल भी करें।

शोध
यूरोपियन रेस्पिरेटरी जर्नल में प्रकाशित शोध के अनुसार 34,776 लोगों पर अध्ययन किया गया। जिसमें स्वस्थ आहार लेने वाले पुरुषों में अस्थमा के संकेत 30 प्रतिशत कम देखे गए। वहीं दूसरी ओर महिलाओं में ये कमी 20 प्रतिशत देखी गई। साथ ही जो पुरुष अस्थमा से पीड़ित हैं, उनके स्वस्थ आहार लेने पर इस बीमारी के संकेतों में 60 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई, वहीं महिलाओं में 27 प्रतिशत राहत पाई गई।

शोध के मुख्य लेखक रोलेंड एंड्रियनासोलो के मुताबिक, ताजे फल-सब्जियों और फाइबर में एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्वों की प्रचुर मात्रा होती है। जो अस्थमा की समस्या की रोकथाम करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही उचित देखभाल और योग भी मददगार साबित होता है।

Facebook Comments