गजब का अजूबा है ये पत्थर..रामायण काल से नहीं आया कोई फिर भी अपने आप पत्थरों पर निकलता है टामटर

इस दुनिया के लगभग हर नुक्कड़ और कोने में घर बनाने के बाद भी हम वास्तव में ये नहीं सोचते कि कुछ चीजें आज भी अदृश्य या अस्पष्ट है।
लेकिन सबको मालूम होना चाहिए कि इस ग्रह का परिसर कल्पना करने की तुलना में कई बड़ा, गहरा और रहस्यमय है।
आइसलैंड की बात करें तो हम सभी जाना चाहते हैं। दुनिया में कोई इंसान नहीं जो यहां जाने के लिए कभी मना करे। क्योंकि इससे बेहतर जगह घूमने के लिए हो नहीं सकती। इन सबके बीच, आइसलैंड के मध्य में एक रहस्यमयी द्वीप ये सोचने पर मजबूर करता है कि आखिर  यहां आजतक कोई रहने आया क्यों नहीं।
सुरत्से, ये छोटा सा आइलैंड है। जितना दिखने में ये खूबसूरत है उतना रहस्यमयी चीजों भरा है। कहा जाता है कि इस आइलैंड की स्थापना 1963 में हुई थी। यहां की जगह पिछले 3 सालों में काफी विशाल ज्वालामुखीय विस्फोट झेल चुकी है।
इसकी गुणवत्ता की प्रकृति को देखते हुए, द्वीप अब वैज्ञानिकों द्वारा वैज्ञानिक अनुसंधान का अध्ययन और संचालन करने के लिए उपयोग किया जाता है।  इसलिए सीधे तौर पर कह सकते हैं इस खूबसूरत आइलैंड में अब वैज्ञानिक व शोधकर्ता ही कदम रख सकते हैं, बाकी किसी को यहां आने की अनुमति नहीं है।
इन सबके बीच यहां अजीबोगरीब चीज देखने को मिली। यहां कई सदियों से किसी इंसान ने कदम नहीं रखा। अगर ऐसा है तो इधर भारी भरकम पत्थरों में टमाटर कैसे उग गए।
ये चीज रिसर्चरों के लिए समझना भी इतना आसान काम नहीं है। द्वीप में केवल एक घर बचा है जो कुछ वैज्ञानिकों को दिया है। जिससे वो यहां जाने से पहले चीजों को सर्च कर सके। एक कानून ये भी कहता है कि किसी बाहरी आदमी को किसी तरह का बीच लाने की अनुमति नहीं है।
Facebook Comments