भीषण गर्मी का सामना करने के लिए हो जाइए तैयार

इस साल भीषण गर्मी का सामना करने के लिए तैयार हो जाइए। मौसम विभाग का कहना है कि मार्च से मई तक तापमान पिछले 50 साल की तुलना में सामान्य से 1 डिग्री सेल्सियस होगा।

– विभाग का कहना है कि वैसे तो देश भर में तापमान काफी ज्यादा रहने की संभावना है, लेकिन इन महीनों में उत्तर भारत में सबसे ज्यादा गर्मी रहने का अनुमान है। दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में सामान्य से 1.5 डिग्री सेल्सियस ज्यादा तापमान रह सकता है। वहीं हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड जैसे पहाड़ी इलाकों में सामान्य से 2.3 डिग्री सेल्सियस ज्यादा तापमान रह सकता है।

– विभाग का अनुमान है कि वैसे तो पूरे उत्तर भारत में तापमान सामान्य से 1.5 डिग्री सेल्सियस ज्यादा रहने के अनुमान हैं, लेकिन इसमें भी दिल्ली में तापमान और ज्यादा परेशान कर सकता है। दिल्ली और हरियाणा के कुछ इलाकों में तापमान सामान्य से 1.8 डिग्री सेल्सियस ज्यादा रहने के अनुमान हैं। मौसम विभाग का कहना है कि इसकी 52 प्रतिशत संभावना है कि मार्च से मई के बीच ‘हीट वेव जोन’ में तापमान अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच सकता है। इस जोन में दिल्ली समेत हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान और उत्तर प्रदेश राज्य आते हैं।

– मुंबई में गर्मी ने अपना असर अभी से दिखाना शुरू कर दिया है। जहां फरवरी के महीने में तापमान सामान्य रहता है, वहीं इस बार फरवरी के आखिरी दिनों में तापमान सामान्य से ज्यादा रहा। मुंबई, रत्नागिरी और रायगड के भीरा में तापमान इन दिनों सामान्य से 5 डिग्री सेल्सियस ज्यादा दर्ज किया गया। मौसम विभाग का अनुमान है कि मुंबई और आसपास के तटीय इलाकों में आने वाले 48 घंटों में गर्म हवाओं का सामना करना पड़ सकता है। आईएमडी मुंबई के वैज्ञानिक अजय कुमार का कहना है कि मुंबई में पिछले रविवार से ही तापमान ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। उन्होंने बताया कि बुधवार को आईएमडी ने मुंबई के कोलाबा में तापमान 34 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो सामान्य से 3.5 डिग्री सेल्सियस ज्यादा है।

Facebook Comments