बड़ी लापरवाही: डॉक्टरों ने जिंदा मरीज को मृत घोषित किया

दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल पर एक मरीज के रिश्तेदारों ने गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि अस्पताल के डॉक्टरों ने जिंदा मरीज को मृत घोषित करके डिस्चार्ज कर दिया जबकि अंतिम संस्कार के लिए ले जाते वक्त वह जीवित पाए गए।

60 वर्षीय मरीज हरियाणा के पानीपत के रहने वाले हैं। उन्हें इलाज के लिए गंगाराम में भर्ती कराया गया था। रिश्तेदारों ने बताया कि मृत घोषित करने के बाद जब अंतिम संस्कार के लिए उन्हें ऐम्बुलेंस से घर ले जाने लगे, तभी उनके शरीर से पसीना निकलता दिखा।

रिश्तेदारों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा, ‘उनके शरीर से पसीना निकलता दिखा और जिसके बाद डॉक्टरों को बताया गया जिन्होंने उनके जिंदा होने की पुष्टि की।’

हालांकि, बाद में सामने आए डिस्चार्ज रिपोर्ट में लिखा गया है, ‘मरीज की हालत नाजुक है और उन्हें आगे इलाज की जरूरत है। मरीज के अटेंडेंट उन्हें डिस्चार्ज कराना चाहते हैं, इसलिए उन्हें लीव अगेंस्ट मेडिकल एडवाइस के आधार पर डिस्चार्ज किया जा रहा है।’

बता दें कि मेडिकल लापरवाही के ऐसे मामले दिल्ली में पहले भी सामने आए हैं जब जिंदा मरीज को मृत बता दिया गया था। पिछले दिनों शालीमार बाग स्थित मैक्स हॉस्पिटल ने नवजात जुड़वां बच्चे को मृत घोषित कर शव घर वालों को पॉलीथीन में लपेट कर सौंप दिया था, जबकि उनमें से एक नवजात जिंदा पाया गया था। हालांकि, इलाज के दौरान उसकी भी मौत हो गई। इस घटना पर बवाल होने के बाद सीएम अरविंद केजरीवाल ने शालीमार बाग स्थित मैक्स का लाइसेंस रद्द कर दिया था।

Facebook Comments