वैज्ञानिकों की नई खोज, निकाला एक और नया ग्रह….

वैज्ञानिकों का मानना है कि इस खोज से सौरमंडल के कई अन्य ग्रहों अथवा पिंडों में पानी विभिन्न प्रकार से मौजूद होने की पुष्टि होती है।इसका पता तब चला, जब हाल ही में अंतरिक्ष स्थित दूरबीन हव्वल ने यूरोपा के फोटो लिए। इन तस्वीरों में काफी उंचाई तक उठते पानी के फव्वारे नजर आते हैं। जिनकी उंचाई 100 किलोमीटर तक आंकी गई हैं।

यूरोपा बर्फीला उपग्रह है। इसकी सतह बर्फ से ढकी हुई है। वैज्ञानिकों का मानना है कि यूरोपा के अंदर पानी का सागर है। जिसमें पृथ्वी से भी अधिक जल हो सकता है। इस खोज से यह भी पता चलता है कि सौरमंडल के अन्य ग्रहों में भी पानी के सागर हो सकते हैं।

अब नासा यूरोपा के पानी की जांच के लिए अगला मिशन तैयार करने में जुट गया है। इस मिशन का नाम क्लिपर रखा गया है। मिशन के तहत क्लिपर यान यूरोपा के फव्वारों के बीच से होकर गुजरेगा और पानी के सैंपल लेगा।

Facebook Comments