GST को लेकर मिलने वाली है बड़ी खुशखबरी…..

बता दें कि GST काउंसिल द्वारा गठित किए गए मंत्रियों के समूह ने इस सौगात के लिए अपनी मंजूरी दे दी है। जानकारी के मुताबिक, शुक्रवार को होने वाली जीएसटी काउंसिल की अगली बैठक में इस पर फैसला लिया जाएगा। जीएसटीएन नेटवर्क (सिस्टम) हर महीने अपलोड होने वाली सप्लाई डाटा और सप्लाई होने के मंजूरी के डाटा को देखकर रिटर्न को सेमी-ऑटोमेटिक तरीके से जारी करेगा। 

सिस्टम में इस तरह का बदलाव किया गया कि माल खरीदने वाला व्यक्ति (बायर) उस बिल को लॉक कर सकेगा, जिसके बाद विक्रेता उसमें किसी तरह का कोई बदलाव नहीं कर पायेगा। तो वहीं बता दें कि टैक्स चोरी रोकने के लिए सिस्टम हर तिमाही पर एक ऐसी लिस्ट को जेनरेट करेगा, जिससे टैक्स जमा ना करने वाले डिफॉल्टरों पर नजर रखी जा सकेगी।

 

जानकारी के मुताबिक, सुशील मोदी की अगुवाई वाले मंत्री समूह ने GST रिटर्न दाखिल करने के लिए नए आसान मॉडल को मंजूरी दे दी है। इस नए मॉडल के आधार पर आपूर्तिकर्ता द्वारा बिक्री के इनवॉइस अपलोड करने के बाद तात्कालिक आधार पर क्रेडिट दिया जाएगा। इससे पहले केंद्र सरकार ने जीएसटी रिर्टन के फॉर्म 3बी अब काफी सरल कर दिया था। जीएसटी नेटवर्क ने फॉर्म 3बी में कई महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं, जिसके बाद कारोबारियों को रिटर्न भरने में बहुत आसानी हो जाएगी।

तो वहीं अब नए फॉर्म में टैक्स पेमेंट करने का चालान ऑटो जेनरेट होगा। ये इनपुट टैक्स क्रेडिट के अलावा होगा। इसके अलावा टैक्सपेयर के पास क्रेडिट राशि को एडिट करने का ऑप्शन भी होगा।

Facebook Comments