उनके स्क्रीन पर एंट्री लेने से लेकर हीरो को तड़पाकर मारने तक हर चीज दमदार होती थी..

90 के दशक के विलेन काफी खूंखार होते थे। उनके स्क्रीन पर एंट्री लेने से लेकर हीरो को तड़पाकर मारने तक हर चीज दमदार होती थी। 90 के दशक के सबसे धांसू विलेन AMRISH PURI को माना जाता था…। उनका डायलॉग मोगैम्बो खुश हुआ सभी लोगों के जुबान पर चढ़कर बोला था। खैर आज हम AMRISH PURI से भी ज्यादा फेमस और पुराने विलेन के बारे में आपको बताएंगे जिनका चेहरा आप बेशक भूल गये होंगे लेकिन उनके डायलॉग आपको जरुर याद होंगे। हम बात कर रहे हैं AJIT KHAN की…। AJIT KHAN को फिल्मों में सिर्फ विलेन के तौर पर नहीं बल्कि उनकी कॉमेडियन के तौर पर भी याद किया जाता है। इसके कई फेसम डायलॉग हैं जिन्हे आज भी कई फिल्मों में यूज किया जाता है। जैसे-मौना डार्लिंग सोना कहां है।

कहा जाता है कि AJIT KHAN को बचपन से ही एक्टिंग का शौक था जिसके लिए वो अपना घर छोड़कर मुंबई आ गये थे। फिल्म इंडस्ट्री के इस लायन विलेन ने एक्टर बनने के लिए अपनी किताबें तक बेच डाली थी। AJIT KHAN पहले ऐसे एक्टर थे जिन्होंने कुछ फिल्में में हीरो के तौर पर की लेकिन बाद में वो फिल्म इंडस्ट्री के सबसे बड़े विलेन बनकर उभरे थे। आज AJIT KHAN हमारे बीच में नही हैं लेकिन उनका बेटा भी बॉलीवुड में विलेन का किरदार निभा रहा है। AJIT KHAN  के सबसे बड़े बेटे का नाम है SHAHZAD KHAN..जिन्होंने कई बड़े स्टार्स के साथ काम किया है। SHAHZAD को विलेन के अलावा बॉलीवुड में अपनी कॉमेडी के लिए भी जाना जाता है।

SHAHZAD ने अभी तक ANDAZ APNA APNA, QAYAMAT SE QAYAMAT TAK, ARJUN DEVA, HERO HINDUSTANI, BARSAAT जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम किया है। SHAHZAD अपने पिता की नकल करने के लिए जाने जाते हैं। SHAHZAD को अपने करियर की असल पहचान टीवी शो शाका-लाका बूम-बूम से मिली थी। इस टीवी शो में SHAHZAD ने विलेन का रोल प्ले किया था। ये शो अपने टाइम में सबसे ज्यादा पॉपुलर शो हुआ करता था। अगर आपका जन्म भी 90 के दशक में हुआ होगा तो आपने ये शो जरुर देखा होगा। अब SHAHZAD ने फिल्मों से दूरी बना ली है और अब कहां हैं ये कोई नहीं जानता।

Facebook Comments