हिजाब पहनने की वजह से अरबी डॉक्टर को नहीं मिली नौकरी…

एक मिस्र की महिला जो की इस समय जर्मनी में है, ने जॉब के लिए अप्लाई किया था, जॉब कंपनी का जवाब देख कर महिला चौंक गयी.

महिला ने चिकित्सा संस्थान में डॉक्टर के पद के लिए अप्लाई किया था, लेकिन चिकत्सा संस्थान से मिली प्रतिक्रिया के बाद अरबी महिला बहुत हैरान हो गयी, नौकरी के लिए अप्लाई करने के बाद महिला को जब फ़ोन पर मेल रिसीव हुआ तो महिला मेल पढ़ने के लिए काफी उत्साहित थी, क्योंकि महिला को लगा की हॉस्पिटल डिपार्टमेंट से अच्छी खबर आई हो या फिर महिला को ले लिए गया हो लेकिन जैसे ही महिला ने मेल अकाउंट खोला तो महिला चौंक गयी क्योंकि हॉस्पिटल से जवाब आया था की “वह महिला को नौकरी पर नहीं ले सकते क्योंकि वह महिला ने हिजाब पहना था.”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार महिला ने कहा की उसने अन्य जगह भी अप्लाई किया, किसी ना किसी कारण से महिला मुझे नौकरी नहीं दी गयी लेकिन यह पहला ऐसा कारण था जिसे देख कर मै चौंक गयी, क्योंकि यह जातिवाद कारण था.”

महिला ने हॉस्पिटल डिपार्टमेंट के उस डॉक्टर के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट लिखवाई और आरोप लगाया की “जर्मनी में डॉक्टर ने भेदभाव किया.” कानून किसी भी मालिक को “नौकरी आवेदकों या कर्मचारियों के खिलाफ लिंग, जाति या जातीय मूल, धर्म या विश्वास, उम्र, विकलांगता के आधार पर भेदभाव” से रोकता है.

Facebook Comments