लोगों ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया,आपसी सौहार्द का भी सन्देश दिया गया

हिन्दू नववर्ष 2075 विक्रमसंवत को भव्य रूप से मनाते हुए महोबा में युवतियों और महिलाओं ने भगवामय वस्त्र पहन कर बाइक रैली निकाली। जब यह रैली शहर के मुख्य मार्गों से निकली तो हिन्दू महिलाएं के जोश और उत्साह को देखकर फूलों की वर्षा करने लगे तो वहीं पीएम मोदी से सीख लेते हुये गंगा जमुनी तहज़ीब को लेकर महिलाओं ने अज़ान की आवाज़ सुन रैली में चल रहे डीजी और जय श्री राम के नारों को बन्द कर एकता की मिशाल पेश की।

महोबा शहर के तहसील चौराहे पर स्थित संकट मोचन हनुमान मन्दिर पर रविवार शाम हिन्दू नव वर्ष को भव्य और आकर्षक रूप से मनाया गया। भगवा परिधान में महिलाएं सिर पर सेहरा बांधकर जय श्री राम के नारे लगती हुई गली ओर चौराहों से गुजरीं तो लोगों ने पुष्प वर्षा कर उनका भव्य स्वागत किया। महिलाओं और युवतियों की आकर्षक ड्रेस देख सभी दाँतों तले उँगली दबाने को मजबूर हो गये। बाइक पर सवार महिलाओं ने बताया कि हम इस रैली के माध्यम से महिलाओं को ***** संस्कृति और सभ्यता के प्रति जागरूक कर हैं। जिससे देश में महिला सशक्तिकरण को बल मिल सके।
इस रैली में ***** मुस्लिम एकता की मिशाल भी उस समय देखने को मिली जब जय श्रीराम के उद्घोषों के बीच रैली ऊदल चौक पहुँची। इसी दौरान अजान की पुकार सुन हिन्दू युवतियों ने न केवल रैली का डीजे बन्द करा दिया बल्कि जयकारे भी बन्द कर दिए। रैली के इस संदेश का मुस्लिम समुदाय के लोगों ने दिल से स्वागत किया।

दरअसल रविवार को रामनवमी और हिन्दू नववर्ष को लेकर हिन्दू महिलाओं ने भगवा परिधान पहनकर बाइक रैली निकाली थी। शहर के प्रमुख चौराहों से होते हुए ये रैली मंदिर परिसर में आकर समाप्त हो गई। खास बात तो यह भी रही कि इस रैली के माध्यम से हिन्दू नववर्ष और महिला सशक्तिकरण के सन्देश के साथ आपसी सौहार्द का भी सन्देश दिया गया। मस्जिद के पास से निकल रहे जुलुस ने अजान पर एहतराम कर डीजे को बंद करा दिया और अजान समाप्त होने पर महिलाओं ने जय श्रीराम के नारे लगाए। एकता और भाईचारे की इस पेशकश को देखकर मुस्लिम भी इसके कायल हो गए और जूलुस की प्रशंसा करते हुए सहयोग की बात कही।

Facebook Comments