National : इस साल के अंत तक गया जिला भी खुले में शौच से हो जाएगा मुक्त- मंत्री

पूरे देश के साथ-साथ बिहार में भी स्वतंत्रता दिवस को धूम-धाम से मनाया गया। स्वतंत्रा दिवस के अवसर पर सरकारी कार्यालयों, शैक्षणिक संस्थानों सहित लोगों के घरों पर तिरंगा लहरा रहा था।

बिहार के गया में स्वतंत्रता दिवस समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे शिक्षा, कानून और सामाजिक कल्याण मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद ने गांधी मैदान में तिरंगा फहराया। कृष्ण नंदन प्रसाद गया जिले के प्रभारी मंत्री भी हैं। उन्होंने इस मौके पर जिले को साल के अंत तक खुले में शौच से मुक्त करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई।

इस मौके पर शिक्षा मंत्री ने कहा कि जिले में घर-घर तक बिजली पहुंचाने के लिए राज्य सरकार पूरी तनमयता से काम कर रही है। साथ ही राज्य की सात निश्चय योजना के तहत जिले की जनता तक मूलभूत सुविधाएं पहुंचाई जा रही है।मामूल हो कि पिछले महीने ही बिहार का सीतामढ़ी राज्य का पहला खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) जिला बना है। सीतामढ़ी प्रशासन और स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने इसकी घोषणा की थी। पूरे देश में सीतामढ़ी खुले में शैच मुक्त बनने वाला 416 जिला है।

देश का पहला ओडीएफ जिला

30 अप्रैल 2015 को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ‘नदिया’ को देश का पहला ओडीएफ जिला घोषित किया था। राज्य सरकार द्वारा मिली जानकारी के अनुसार नदिया जिला प्रशासन ने 2013 में ‘शोबार शौचागर’ मुहिम की शुरुआत की थी। इसके तहत पूरे जिले में 3,55,000 शौचालयों का निर्माण करवाया गया। मार्च 2015 तक जिले के सभी घरों में शौचालय की सुविधा थी। युनिसेफ और वर्ल्ड बैंक ने इसे प्रमाणित किया है। वहीं, यूनिसेफ के अनुसार भारत की लगभग आधी आबादी अब भी खुले में शौच करती है।

आपको बता दें कि भारत सरकार ने 2 अक्टूबर 2014 अपनी महत्वाकांक्षी  स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी। इसका उद्देश्य देश को गंदगी की समस्या से बाहर निकलना है। साथ ही इस योजना का उद्देश्य व्यक्तिगत और सामुदायिक शौचालयों का निर्माण कर खुले में शौच की समस्या को खत्म करना है।

 

Facebook Comments