हॉन्ग-कॉन्ग ले सकता है फैसला, नीरव मोदी की गिरफ्तारी पर बोला पड़ोसी देश

 पंजाब नेशनल बैंक करीब 13000 करोड़ घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी की गिरफ्तारी के लिए कोशिश कर रही केंद्र सरकार को चीन सरकार की तरफ से राहत मिली है। चीन ने सोमवार को कहा कि स्थानीय कानून और आपसी न्यायिक सहायता समझौतों के आधार पर भारत के भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की गिरफ्तारी के अनुरोध को हॉन्ग-कॉन्ग स्वीकार कर सकता है।

चीन के विदेश मंत्रालय प्रवक्ता गेंग शुआंग ने भारत द्वारा हांगकांग से नीरव मोदी की गिरफ्तारी करने के प्रस्ताव पर कहा कि चीन सरकार का मानना है कि इस मामले में फैसला हांगकांग सरकार अपने नियम और कानून के आधार पर करेगी।

शुआंग के मुताबिक चीन के एक देश दो व्यवस्था मॉडल और हांगकांग के कानून के मुताबिक हांगकांग की सरकार चीन सरकार की मदद और मंजूरी से दूसरे देशों के साथ न्यायिक मामलों पर स्वतंत्र फैसला ले सकती है। लिहाजा, भारत सरकार की किसी उचित मांग पर हांगकांग नियमों के मुताबिक फैसला कर सकती है।

भारत के विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने पिछले हफ्ते ही संसद को बताया था कि विदेश मंत्रालय ने हॉन्ग कॉन्ग प्रशासन से नीरव मोदी की प्रविजनल गिरफ्तारी के लिए अनुरोध किया है।

भारत के अनुरोध के बारे में जब चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग से पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘एक देश दो नीति और हॉन्ग कॉन्ग स्पेशल ऐडमिनिस्ट्रेटिव के अनुसार हॉन्ग कॉन्ग अन्य देशों के साथ आपसी न्यायिक सहयोग को लेकर पूरी व्यवस्था कर सकता है।’

गेंग ने आगे कहा, ‘अगर भारत हॉन्ग कॉन्ग से उचित अनुरोध करता है, तो हमें लगता है कि हॉन्ग कॉन्ग भारत के साथ हुए न्यायिक समझौतों के तहत बुनियादी कानून का पालन करेगा।’

बता दें कि नीरव मोदी पर पीएनबी के साथ 13,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है।

Facebook Comments