आईआईटी की लड़कियों के लिए 779 सीटें आरक्षित….

आईआईटी दिल्ली के चेयरमैन  आदित्य मित्तल ने बताया कि पिछले वर्ष आईआईटी में लगभग 10 पर्सेंट महिला छात्रों के अनुमान के अनुसार 2018 में इस संख्या को बढ़ाकर 14 पर्सेंट करने के लिए लगभग 550 अतिरिक्त सीटों की जरूरत होगी। अब इस मामले में महिलाओं के लिए संख्या अधिक कर दी गई है। आईआईटी और जेईई में महिलाओं के लिए संख्या बढ़ाकर 779 की गई है।

बीटेक प्रोग्राम में घटते लैंगिंक अनुपात को बराबरी पर लाने के लिए यह कदम उठाया गया है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि पिछले साल के मुकाबले इस बार लड़कियों के नामांकन में दोगुनी बढ़ोतरी होगी। इस बार आईआईटी के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) एडवांस्ड का आयोजन 20 मई को किया जाएगा। कुल 779 सीटों में से सबसे अधिक सीटें (113) आईआईटी खड़गपुर में हैं, जबकि आईआईटी धनबाद में 95 सीटें, आईआईटी कानुपर में 79 सीटें, आईआईटी बीएचयू में 76 सीट, आईआईटी रूड़की में 68 सीट, आईआईटी दिल्ली में 59 सीट, आईआईटी मुंबई में 58 सीट, आईआईटी मद्रास में 31, आईआईटी पटना में 25, आईआईटी इंदौर में 15 और आईआईटी गुवाहाटी में 57 सीटें हैं।

 

एक आंकड़े के मुताबिक, 2013 में कुल 9718 नामांकन हुए, जिसमें लड़कियों की संख्या 908 थी जो कि कुल नामांकन का सिर्फ 9.3% था।

2014 में कुल 9732 नामांकन हुए, जिसमें लड़कियों की संख्या 861 थी जो कि कुल नामांकन का सिर्फ 8.8% था।

2016 में कुल 10500 नामांकन हुए, जिसमें लड़कियों की संख्या 848 थी जो कि कुल नामांकन का सिर्फ 8.07% था।

2017 में कुल 10987 नामांकन हुए, जिसमें लड़कियों की संख्या 1006 थी जो कि कुल नामांकन का सिर्फ 9.1% था।

आईआईटी में पिछले पांच सालों में लड़कियों की संख्या में उतार-चढ़ाव आता रहा है।हालांकि यह हमेशा ही 8 से 10 प्रतिशत के बीच ही रहा। वहीं दूसरी ओर देखा जाए तो आईआईटी के स्नातकोत्तर कार्यक्रम में लैंगिक अनुपात 22 प्रतिशत रहा है। आईआईटी परिषद की 28 अप्रैल 2017 को हुई बैठक में यह फैसला लिया गया था। परिषद ने 2018 में 14 प्रतिशत, 2019 में 19 प्रतिशत और 2020 में 20 प्रतिशत लड़िकयों के रजिस्ट्रेशन का लक्ष्य रखा है।

देश में आईआईटी के साथ ही अन्य इंजिनियरिंग इंस्टिट्यूट में भी छात्राओं की संख्या काफी कम है। अब देखना यह है कि ये आरक्षित सीटें छात्राओं के नामांकन में कितनी बढ़ोतरी करती है।

 

Facebook Comments