प्रदूषित नदियां को लेकर पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड (पीपीसीबी) व मुख्यमंत्री कार्यालय ने गंभीरता से लिया…..

किसी को अंदाजा भी नहीं था कि चड्ढा चीनी मिल द्वारा हजारों टन शीरा ब्यास नदी में डाल दिए जाने का इतना भीषण परिणाम निकलेगा कि सारी नदियां प्रदूषित हो जाएंगी. इस मामले को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी), पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड (पीपीसीबी) व मुख्यमंत्री कार्यालय ने गंभीरता से लिया है.

 

बता दें कि एनजीटी के प्रमुख डॉ. जस्टिस जावेद रहीम ने इस मामले में केंद्र सरकार के जल संसाधन मंत्रालय, पंजाब सरकार, राजस्थान सरकार, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और संबंधित शुगर मिल्स को को नोटिस जारी कर दिए हैं.एनजीटी ने यह कार्रवाई विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष सुखपाल सिंह खैहरा की शिकायत पर स्वतः संज्ञान कर की है.उधर, पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने चड्ढा शुगर मिल मालिकों को नोटिस जारी कर कल गुरुवार को पेश होने के निर्देश दिए हैं .सीएम ने भी पर्यावरण विभाग से रिपोर्ट मांगी है.

 

उल्लेखनीय है कि एनजीटी ने एन. जी. टी. ने रिपोर्ट तैयार करने के लिए पानी के तीन-तीन सैंपल लेने और इसकी रिपोर्ट पंजाब और केंद्र सरकार का प्रदूषण बोर्ड मिलकर तैयार करने को कहा है . यह रिपोर्ट 6 सप्ताह में तैयार की जाना है.इस मामले की अगली सुनवाई 17 जुलाई को निर्धारित की गई है.

Facebook Comments