भारत ने इंग्लैंड की पहली पारी 332 रनों पर समेटी, जडेजा ने किए 4 शिकार

India's captain Virat Kohli (R) celebrates with teammates after England's Jonny Bairstow is bowled by India's Mohammed Shami first ball, during play on the third day of the fourth Test cricket match between England and India at the Ageas Bowl in Southampton, south-west England on September 1, 2018. (Photo by Glyn KIRK / AFP) / RESTRICTED TO EDITORIAL USE. NO ASSOCIATION WITH DIRECT COMPETITOR OF SPONSOR, PARTNER, OR SUPPLIER OF THE ECB

जोस बटलर के 89 आैर एलिस्टर कुक के 71 रनों की बदाैलत इंग्लैंड की टीम आखिरी टेस्ट की पहली पारी में 332 रन बनाने में कामयाब हुई। जसप्रीत बुमराह, इशांत शर्मा ने 3-3 विकेट झटके। वहीं रविंद्र जडेजा ने सर्वाधिक 4 विकेट झटके।

पहले दिन शुरूआत लडख़ड़ाहट भरी रही थी और उसने पहले दिन का खेल समाप्त होने तक 198 रन पर सात विकेट गंवा दिये थे। लेकिन आज बटलर ने 11 रन से आगे खेलते हुए टीम का स्कोर 300 पार पहुंचा दिया।

लंच से पूर्व भारतीय टीम को केवल आदिल राशिद के रूप में एक ही विकेट मिल सका जिन्हें मध्यम तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने 15 रन के स्कोर पर पगबाधा किया। राशिद कल के स्कोर में 11 रन का ही इजाफा कर सके। बटलर ने ब्रॉड के साथ नौवें विकेट के लिये 90 रन की अविजित साझेदारी कर ली है।

ENG 332-all out (122.0 Ovs)

CRR: 2.72

Day 2: Innings Break

इससे पहले इशांत शर्मा और जसप्रीत बुमराह की आखिरी सत्र में घातक गेंदबाजी से भारत ने शुक्रवार को यहां शानदार वापसी करके इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच का पहला दिन पूरी तरह से अपने नाम कर दिया। इंग्लैंड का स्कोर एक समय एक विकेट पर 133 रन था लेकिन पहले दिन का खेल समाप्त होने तक वह सात विकेट पर 198 रन बनाकर जूझ रहा था। पहले दो सत्र में विकेट से महरूम रहे इशांत ने 28 रन देकर तीन और बुमराह ने 41 रन देकर दो विकेट लिये हैं। स्पिनर रविंद्र जडेजा ने भी 57 रन के एवज में दो विकेट हासिल किये। मोहम्मद शमी ने भी अच्छी गेंदबाजी की लेकिन उन्हें विकेट नहीं मिला।

अपना आखिरी टेस्ट मैच खेल रहे एलिस्टेयर कुक की धीमी लेकिन ठोस पारी और दूसरे छोर से मोईन अली के पिच पर टिके रहने के ²ढ़ इरादों के कारण भारत पहले दो सत्र में केवल एक विकेट हासिल कर पाया लेकिन चाय के विश्राम के बाद एकदम से कहानी बदल गयी। कुक ने बेहद धीमी बल्लेबाजी की लेकिन वह पिछली नौ पारियों के बाद पहली बार अर्धशतक जमाने में सफल रहे। उन्होंने 190 गेंदें खेलकर 71 रन बनाये तथा इस बीच अपने सलामी जोड़ीदार कीटोन जेङ्क्षनग्स (23) के साथ पहले विकेट के लिये 60 और मोईन अली (50) के साथ तीसरे विकेट के लिये 73 रन की उपयोगी साझेदारियां की।

तीसरा सत्र पूरी तरह से भारत के नाम रहा जिसमें उसने छह विकेट हासिल किये। बुमराह ने कुक और कप्तान जो रूट (शून्य) को चार गेंद के अंदर पवेलियन भेजकर भारत को वापसी दिलायी। कुक के लिये उनकी मूव करती गेंद बल्ले को चूमकर विकेट पर लगी जबकि बुमराह की इनसिंवगर रूट के समझ से परे थी। वह उनके पैड पर टकरायी और जोरदार अपील पर अंपायर की उंगली उठ गयी। भारत ने मोईन और कुक के खिलाफ अपने दोनों रिव्यू गंवा दिये थे लेकिन रूट ने डीआरएस का सहारा लिया। उन्हें हालांकि इसका फायदा नहीं मिला और इंग्लैंड के कप्तान को बिना खाता खोले पवेलियन लौटना पड़ा। इशांत ने अगले ओवर में जेमी बेयरस्टॉ को भी खाता नहीं खोलने दिया। उनकी आफ स्टंप से जाती गेंद को बेयरस्टॉ ने लाइन में आये बिना खेलने की कोशिश की और विकेटकीपर ऋषभ पंत को आसान कैच थमाया। बेयरस्टॉ पिछली चार पारियों में तीसरी बार खाता नहीं खोल पाये और इंग्लैंड का स्कोर एक विकेट पर 133 रन से चार विकेट 134 रन हो गया। बेन स्टोक्स (11) भी ज्यादा देर तक मोईन का साथ नहीं दे पाये। जडेजा की सीधी लेकिन अपेक्षाकृत तेज गेंद विकेट के ठीक सामने उनके पैड पर टकरायी और अंपायर को फैसला देने में किसी तरह की परेशानी नहीं हुई।

कुक का है आखिरी मैच
PunjabKesari

मोइन की 170 गेंद की धैर्यपूर्ण पारी का अंत आखिर में इशांत ने किया। इस अनुभवी गेंदबाज ने उन्हें स्ट्रोक खेलने के लिये मजबूर किया और गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर पंत के दस्तानों में समा गयी। इशांत ने इसी ओवर में नये बल्लेबाज सैम कुरेन (शून्य) को भी पवेलियन की राह दिखा दी जिन्होंने पिछले मैच में अपनी दो साहसिक पारियों से पासा पलट दिया था।  इशांत के अगले ओवर में जोस बटलर भी पवेलियन लौट सकते थे। कैच की उनकी अपील पर अंपायर की उंगली भी उठ गयी थी लेकिन रीप्ले से पता चला कि गेंद बल्ले से नहीं लगी थी। भारत ने 87 ओवर बाद नयी गेंद ली, लेकिन इससे असर नहीं पड़ा। स्टंप उखडऩे के समय बटलर 11 और आदिल राशिद चार रन पर खेल रहे थे।

PunjabKesari

इससे पहले रूट के लगातार पांचवें मैच में टास जीतने के बाद अपना आखिरी टेस्ट मैच खेल रहे कुक जब बल्लेबाजी के लिये मैदान पर उतरे तो भारतीय टीम ने उन्हें ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ पेश किया। जडेजा ने जेनिंग्स को केएल राहुल के हाथों कैच कराकर टीम को पहली सफलता दिलायी। राहुल का श्रृंखला में यह 12वां कैच था। शमी को शुरू में मूवमेंट नहीं मिला लेकिन दूसरे स्पैल में उन्होंने काफी प्रभावशाली गेंदबाजी की तथा कुक और मोईन को परेशान किया। भाग्य हालांकि उनके साथ नहीं था और अच्छे प्रयास के बावजूद उन्हें सफलता नहीं मिली।

इंग्लैंड ने पिछले मैच में जीत दर्ज करने वाली अपनी टीम में कोई बदलाव नहीं किया जबकि भारत ने चोटिल रविचंद्रन अश्विन की जगह जडेजा और हाॢदक पंड्या के स्थान पर हनुमा विहारी को टीम में रखा। इंग्लैंड पांच मैचों की श्रृंखला में 3-1 से पहले ही अपने नाम कर चुका है।

टीमें इस प्रकार हैं:
भारत:
 विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, पृथ्वी साव, लोकेश राहुल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, दिनेश कार्तिक, ऋषभ पंत, करूण नायर, हार्दिक पंड्या, आर अश्विन, रविंद्र जडेजा, हनुमा विहारी, इशांत शर्मा, उमेश यादव, शारदुल ठाकुर, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह में से।

इंग्लैंड: जो रूट (कप्तान), एलिस्टेयर कुक, कीटोन जेनिंग्स, जानी बेयरस्टा, जोस बटलर, ओलिवर पोप, मोईन अली, आदिल राशिद, सैम कुरेन, जेम्स एंडरसन, स्टुअर्ट ब्राड, क्रिस वोक्स और बेन स्टोक्स में से।

Facebook Comments