कहीं आप भी तो नहीं लेती अपने पति का नाम, जल्द चली जाएगी जान

हिन्दू धर्म के अनुसार एक पत्नी अपने पति को भगवान के समान मानती हैं और पति के पैर छूकर इस रिश्ते के सबसे ऊँचा बना देती हैं. एक शादीशुदा स्त्री हमेशा अपने पति की आज्ञा का पालन करती हैं. जैसा कि हम सभी जानते हैं कि कुछ समय पहले ऐसा रिति-रिवाज था कि एक पत्नी अपने पति को नाम से नहीं पुकार सकती हैं क्योंकि इसे पति का अपमान माना जाता हैं. वहीं आज के समय में लोग इन बातों पर विश्वास नहीं करते हैं.

आजकल के इस फास्ट फॉरवर्ड ज़माने में लव मैरेज का प्रचलन बढ़ता जा रहा है और लडकियां अपने पति का नाम सभी के सामने बेझिझक लेती हैं. लेकिन आप शायद ही जानते होंगे कि हिंदू धर्म के अनुसार अपने पति का नाम न लेने के पीछे का एक ठोस कारण बताया गया है जिसे जानकर आप हैरान हो जायेंगे.

दरअसल स्कंद पुराण में लिखा है कि पतियों को नाम से बुलाने पर उनकी उम्र घटने लगती है. इसलिए एक पत्नी अपने पति का नाम कभी नहीं लेती हैं. इसके अलावा ये भी बताया गया हैं कि जो महिलाएं अपने पति से पहले सो जाती हैं या पहले भोजन करती हैं उन्हें पवित्र स्त्री नहीं माना जाता है.

इसलिए पहले के समय में स्त्री अपने पति के सोने के बाद ही सोती थी और उनके खाना खाने के बाद स्वयं भोजन करती थी. ये भी कहा जाता हैं कि एक पतिव्रता स्त्री को अपने पति की अनुमति के बिना कोई भी काम नहीं करना चाहिए ये एक अच्छी पत्नी के गुण नहीं होते हैं.

Facebook Comments