भाजपा का ऑपरेशन लोटस फेल…कर्नाटक में टला जेडीएस-कांग्रेस सरकार का संकट

कर्नाटक में भाजपा का सरकार बनाने का सपना एक बार फिर से टूट गया है। प्रदेश में भाजपा का ऑपरेशन लोटस एक बार फिर से विफल हो गया है। पार्टी प्रदेश में जेडीएस-कांग्रेस के गठबंधन की सरकार को गिरा पाने में फिर से फेल हो गई है। जिस तरह की खबर सामने आई थी कि कांग्रेस के कुछ विधायक पार्टी का साथ छोड़ सकते हैं, वह आखिरकार एक बार फिर से पार्टी के साथ आते नजर आ रहे हैं, जिसके चलते प्रदेश में गठबंधन की सरकार को गिराने की भाजपा की कोशिश नाकाम हो गई है।

प्रदेश में जेडीएस-कांग्रेस की गठबंधन की सरकार को गिराने की भाजपा ने काफी मुश्किल कोशिश की थी, लेकिन वह प्रदेश में अपनी सरकार बनाने में विफल हो गई है। दरअसल प्रदेश में सरकार को 224 विधायकों की संख्या को कम करके 211 तक लाना था, इसका मतलब था कि कांग्रेस के कम से कम 14 विधायक अपने पद से इस्तीफा दें। लेकिन बागी विधायकों को इस बात का एहसास हुआ कि उनके इस्तीफा देने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि उनकी संख्या महज 4-5 ही बची है। ये तमाम विधायक अन्य विधायकों को इस्तीफा देने के लिए राजी नहीं कर सके।

बागी विधायकों को इस बात की भी जानकारी थी कि विधानसभा स्पीकर उनके इस्तीफे पर दूसरा रुख भी अख्तियार कर सकते हैं। कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा कि भाजपा एक बार फिर से अपने अभियान में विफल हो गई है। ये लोग गलत तरीके से हमारे विधायकों को खरीदने कीक कोशिश कर रहे थे, लेकिन उन्हें इस बार भी निराशा हाथ लगी है। इन सब के बीच भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा ने भाजपा विधायकों से कहा कि ऑपरेशन लोटस को खत्म कर दिया गया है। उन्होंने पार्टी के विधायकों से कहा कि उन्हें उम्मीद थी कि कांग्रेस के 12-15 विधायक अपने पद से इस्तीफा दे देंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 12 विधायक जिन्होंने उन्हें इस बात का आश्वासन दिया था कि वह अपने पद से इस्तीफा दे देंगे, उन्होंने अपना फैसला बदल दिया।

Facebook Comments