कमल हासन-क्या सिर्फ 12 साल की लड़कियां ही बच्ची है…..

हासन ने एक सवाल के जवाब में कहा , ‘आप तय करेंगे कि मुझे क्या होना चाहिए… मुख्यमंत्री या विपक्षी नेता.’ जाति प्रथा के उन्मूलन पर उन्होंने कहा, ‘यह एक रोग है और इसका खात्मा होना चाहिए. जाति आधारित भेदभाव गरीबी का एक कारण है. जाति का फौरन उन्मूलन नहीं हो सकता.’ गौरतलब है कि कमल हासन और रजनीकांत ने दक्षिण भारत की सियासत में कदम रख दिया है और अपनी अपनी पार्टी के दम पर सूबे और फिर देश की राजनीतिक दशा को सुधारने का संकल्प ले चूके  है.

पोक्सो एक्ट में संधोधन किये जाने के बारे में अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने नाराजगी जताते हुए सिर्फ 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से बलात्कार के मामलों में मौत की सजा का प्रावधान पर प्रश्न चिन्ह लगाया है. कमल हासन ने कहा क्या 14 , 15 और 16 साल की लड़कियां बच्ची नहीं है. हासन ने यह भी कहा कि परिवारों को अपने लड़कों को जिम्मेदार बनाना चाहिए.

मक्कल निधि मैअम’ (एमएनएम) प्रमुख हासन ने यूट्यूब के जरिए अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं और समर्थकों को संबोधित करते हुए अपने विचार जाहिर किये. गौरतलब है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आपराधिक कानून संशोधन अध्यादेश को मंजूरी देकर 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से बलात्कार के दोषियों को मौत की सजा के प्रावधान को मंजूरी दे दी है.

 

Facebook Comments