Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी पर इस समय करें गणपति स्थापना

भाद्रपद मास की शुक्लपक्ष की चतुर्थी तिथि को शिवा कहते हैं। इस दिन किसी तीर्थ स्थान पर स्नान दान व्रत जप आदि सत्कर्म करना चाहिए, जो व्यक्ति ऐसा करता है उसको गणपति जी का सौ गुना अभीष्ट फल प्राप्त होता है। इस दिन गणेश जी के साथ शिव जी और पार्वती जी का पूजन करना चाहिए। भारत में कुछ त्यौहार धार्मिक पहचान के साथ-साथ क्षेत्र विशेष की संस्कृति के परिचायक भी हैं। इन त्यौहारों में किसी न किसी रूप में प्रत्येक धर्म के लोग शामिल रहते हैं।

Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी पर इस समय करें गणपति स्थापना

Third party image reference

जिस तरह पश्चिम बंगाल की दुर्गा पूजा आज पूरे देश में प्रचलित हो चुकी है उसी प्रकार महाराष्ट्र में धूमधाम से मनाई जाने वाली गणेश चतुर्थी का उत्सव भी पूरे देश में मनाया जाता है। गणेश चतुर्थी का यह उत्सव लगभग दस दिनों तक चलता है जिस कारण इसे गणेशोत्सव भी कहा जाता है।

ऐसे तो गणेश जी का दिन बुधवार को माना गया है। इसलिए बुधवार के दिन घर में गणेश जी की प्रतिमा लाना अत्यंत शुभ माना गया है। 12 सितंबर को दिन बुधवार को शाम 4:07 बजे से चतुर्थी तिथि शुरू होगी। वहीं, 13 सितंबर दिन गुरुवार को दोपहर 2:51 बजे समाप्त हो जाएगी। गणेश पूजन के लिए गुरुवार को सुबह 11:02 से 13:31 तक शुभ मुहूर्त है। इसके साथ ही 13 सिंतबर गुरुवार को सुबह 11:02 बजे से 13:31 तक। गणेश जी की मूर्ति लाने का मुहूर्त 12 सितंबर को दिन बुधवार को मध्याह्न 3:30 से सायंकाल 6:30 तक का समय सही है। वहीं, दिनांक 13 सितंबर के दिन गुरुवार प्रात: 6:15 से 8:05 और 10:50 से 11:30 बजे तक मूर्ति ला सकते हैं।

Facebook Comments