जैन मुनी तरुण सागर ने दो से ज्यादा बच्चों पैदा करने वालों के बारें में कही थी ये कड़वी बात

अपने कड़वे प्रवचनों के लिए पहचाने जाने वाले प्रसिद्ध क्रांतिकारी राष्ट्रसंत मुनि श्री तरुण सागर का आज सुबह 51 साल की उम्र निधन हो गया. तरुण सागर महाराज अक्सर ही अपने बयानों को लेकर सुर्ख़ियों में रहते थे. तरुण सागर महाराज ने मिठ्ठन मोहल्ला सर्राफा बाजार स्थित जैन मंदिर परिसर में पत्रकारों से बात के दौरान बच्चे पैदा करने को लेकर अपना बेबाक बयान दिया था जिसके कारण वह काफी समय तक सुर्ख़ियों में रहे थे. उन्होंने अपने बयान में कहा था कि देश पहले और मजहब बाद में होगा तो देश तरक्की के रास्ते पर आगे बढ़ता जाएगा.

हिन्दुस्तान में लोगों को दो से ज्यादा बच्चे नहीं पैदा करना चाहिए और सरकार को इस पर कानूनी रूप से रोक लगा देनी चाही. उनके अनुसार किसी की जाति या धर्म से मतलब ना रखते हुए सभी को केवल दो बच्चों को पैदा करने की सलाह देनी चाहिए और अगर कोई इसके खिलाफ जाता है तो उससे वोट देने के अधिकार छीन लेना चाहिए. साथ ही उसे किसी भी प्रकार की सुविधाएं भी नहीं देनी चाहिए. उन्होंने यह भी कहा था कि जो लोग आतंकवादी होते हैं उनका कोई धर्म नहीं होता है और वहीं कुछ लोग धर्म का वास्ता देकर आतंकवादी बन रहे हैं. उनके अनुसार जो धर्म आतंकवादियों को जन्म देता है उससे दुरी बना लेनी चाहिए.

उन्होंने यह तक कहा कि शिष्य की जेब साफ़ करने वाले गुरु आपको हर जगह मिलेंगे लेकिन बहुत कम ऐसे सद्गुरु होंगे जो आपके मन को साफ़ करेंगे. जो सद्गुरु आपको आपके अस्तित्व का बोध करवाएगा वह बड़ी मुश्किल से मिलेगा. इस तरह कई बार तरुण सागर जी महाराज अपने विवादित बयानों के कारण सुर्ख़ियों का हिस्सा बने रहे थे. उनके कड़वे प्रवचन कई बार लोगों को चुभे थे और उसके कारण उन्हें विवादों में घिरा हुआ देखा गया था. आपको बता दें कि आज दोपहर उन्हें उत्तरप्रदेश के मुरादनगर में अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जाएगा.​

Facebook Comments