मौसम की खबर : उत्तर भारत में सर्दी का सितम, कश्मीर में बर्फबारी के बाद रूकी हवाई, सड़क और रेल यात्रा

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अधिकारी ने कहा, “सुबह धुंध छाई रही. दिन में आंशिक रूप से बादल छाए रहने के साथ आसमान में तेज हवाएं चलेंगी, जिससे हल्की बारिश या गरज के साथ छींटें पड़ने की संभावना है.”

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार सुबह धुंधभरी रही. यहां का न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 5.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि वायु गुणवत्ता ‘बेहद खराब’ रही. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अधिकारी ने कहा, “सुबह धुंध छाई रही. दिन में आंशिक रूप से बादल छाए रहने के साथ आसमान में तेज हवाएं चलेंगी, जिससे हल्की बारिश या गरज के साथ छींटें पड़ने की संभावना है.”

7 जनवरी को दिल्ली में बारिश के आसार 
अधिकारी ने कहा, “राष्ट्रीय राजधानी में 7 जनवरी तक अलग-अलग स्थानों पर हल्की बारिश होने के आसार हैं.” यहां शनिवार को अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. मौसम विभाग ने 9-10 जनवरी तक अधिकतम तापमान में 2-3 डिग्री की गिरावट की संभावना जताई है. सुबह 8.30 बजे आद्रता का स्तर 100 फीसदी दर्ज किया गया.

वायु गुवत्ता अब भी खराब
राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 368 दर्ज किए जाने के साथ समग्र वायु गुणवत्ता ‘बेहद गंभीर’ श्रेणी में पाई गई. वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूवार्नुमान प्रणाली (सफर) के मुताबिक, “आज रात (शनिवार) तक हवा की गुणवत्ता में काफी सुधार होने की संभावना है, लेकिन अगले तीन दिनों तक यह ‘बेहद गंभीर’ श्रेणी में बनी रहेगी.”

उन्होंने कहा, “अगर बारिश ठीक-ठाक होती है तो वायु गुणवत्ता में तीव्रता से सुधार की उम्मीद की जा सकती है, जिसकी संभावना कम ही है. हल्की हवाओं के साथ हल्की बारिश इस स्थिति को बढ़ाती ही है.” सफर के अनुसार, तेज हवाओं के साथ कोहरे की तीव्रता में गिरावट आने की संभावना है.

कश्मीर में बर्फबारी
कश्मीर घाटी में शनिवार को बड़े पैमाने पर बर्फबारी हुई. इसके चलते क्षेत्र और बाहरी दुनिया के बीच हवाई और जमीनी संपर्क टूट गया. मौसम विभाग ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में पिछले 24 घंटों के दौरान मैदानी इलाकों में कम और ऊंचे पहाड़ी इलाकों में भारी बर्फबारी हुई है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के एक अधिकारी ने कहा कि अगले 24 घंटों में रविवार सुबह तक और ज्यादा बर्फबारी होने के आसार हैं, जिसके बाद मौसम में सुधार होगा.

दृश्यता कम होने के कारण बढ़ी परेशानी
कम दृश्यता के कारण और रनवे से बर्फ हटाने में आ रही दिक्कतों के चलते श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर शनिवार सुबह से न कोई विमान उतरा और न किसी विमान ने उड़ान भरी. भारी बर्फबारी के चलते श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग, मुगल रोड, श्रीनगर-लेह राजमार्ग और गुरेज व तंगधार की ओर के जाने वाले पहाड़ी दर्रो वाले मार्ग बंद हैं. गुलमर्ग, सोनमर्ग, पीर पंजाल और पहलगाम सहित ऊंचे पहाड़ी इलाकों में भारी बर्फबारी हुई.

शीतलहर का प्रकोप है जारी
प्रशासन ने श्रनीगर शहर में सुबह ही सड़कों से बर्फ हटाने का काम शुरू करवा दिया. हालांकि, श्रीनगर और अन्य जिलों के बीच अंतर जिला परिवहन बंद रहा. बर्फबारी की वजह से शहरी और ग्रामीण इलाकों में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गई. घाटी के अधिकांश हिस्सों में सुबह बिजली नदारद रही. श्रीनगर में शुक्रवार को न्यूनतम तापमान शून्य से 1.3 डिग्री नीचे, पहलागम में शून्य से 2.8 डिग्री नीचे और गुलमर्ग में शून्य से 7.3 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज हुआ.

लेह के हालातों पर एक नजर
लेह में तापमान शून्य से आठ डिग्री नीचे और कारगिल में शून्य से 15.6 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज हुआ. जम्मू शहर में रात का न्यूनतम तापमान 8.6 डिग्री, कटरा में 6.4 डिग्री, बटोटे में शून्य से 1.3 डिग्री नीचे, बनिहाल में 0.3 डिग्री और भदरवाह में शून्य से 0.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज हुआ.

Facebook Comments