केरल के एक युवक ने अपनी नवजात बेटी का नाम ‘कठुआ पीड़िता’ के नाम पर रख किया मिसाल कायम….

बच्ची को इंसाफ दिलाने के लिए देश भर के लोगों ने लोगों सोशल मीडिया से लेकर सड़क पर उतर कर उसके लिए न्याय की मांग…

वहीं दरिंदगी का शिकार हुई पीड़ित बच्ची के प्रति सहानभूति जताते हुए केरल के एक युवक ने अपनी नवजात बेटी का नाम ‘कठुआ पीड़िता’ के नाम पर रख कर एक मिसाल कायम की है। दूसरे समुदाय से ताल्लुक रखने के बावजूद उन्होंने पीड़िता के नाम को स्वीकार किया और अपनी नवजात बेटी को वो नाम दिया।

इस युवक की पहचान रजित राम के तौर पर हुई है। उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए इस बात की जानकारी दी। जहां लोगों ने उनके इस कदम को खूब सराहा और उनके पोस्ट को अब तक हजारों की तदात में लोगों ने लाइक और शेयर किया है।

लोगों को कहना है कि इससे समाज में एक अच्छा मैसेज जाएगा। गौरतलब है कि जनवरी में हुए इस केस में पुलिस ने जब चार्जशीट तैयार करके पेश किया तो उनमें दर्ज एक एक बातें हैरान करने वाली थी। बकरवाल समुदाय की बच्ची के साथ जहां तीन दिन तक रेप की बात सामने आई वहीं पत्थर से कुचल कर उसकी हत्या करने की बात भी चार्जशीट में दर्ज है।

हालांकि जम्मू बार एसोसिएशन ने क्राइम ब्रांच की चार्जशीट पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कई ऐसे प्रश्न मीडिया के सामने पेश किए जो चार्जशीट की कहानी से मेल नहीं खाते हैं। फिलहाल ये पूरा कोर्ट में हैं। इसी मामले के चलते भाजपा के दो मंत्रियों को अपनी कुर्सीइस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने भी अपने संज्ञान में लिया है।

Facebook Comments