कठुआ दुष्कर्म: सुप्रीम कोर्ट ने इस केस को जम्मू कश्मीर अदालत से पठानकोट हाई कोर्ट में ट्रांसफर करने के आदेश दिया ……

शीर्ष अदालत ने मामले कि गंभीरता को देखते हुए कहा था कि वह खुद इस मामले पर पूरी नज़र रखेगा, साथ ही मामले से जुड़ी किसी दूसरी याचिका को स्वीकार न करने के निर्देश भी दिए थे.

जम्मू कश्मीर के कठुआ में हुए दुष्कर्म और हत्या मामले के सभी आरोपियों को पठानकोट लाया गया है. जहाँ इन्हे जिला और सत्र अदालत में पेश किया जाएगा. इस केस की सुनवाई के मद्देनजर कोर्ट परिसर में सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस केस को जम्मू कश्मीर अदालत से पठानकोट हाई कोर्ट में ट्रांसफर करने के आदेश दिए थे.

शीर्ष अदालत ने कहा था कि इस मामले पर पठानकोट कोर्ट के जिला एवं सत्र न्यायाधीश ही सुनवाई करें तथा किसी अन्य न्यायाधीश को केस न सौंपे. शीर्ष अदालत ने मामले कि गंभीरता को देखते हुए कहा था कि वह खुद इस मामले पर पूरी नज़र रखेगा, साथ ही मामले से जुड़ी किसी दूसरी याचिका को स्वीकार न करने के निर्देश भी दिए थे. इससे पहले जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट में दाखिल आरोपपत्र से इस बात का खुलासा हुआ था कि बकरवाल समुदाय की बच्ची का अपहरण, गैंगरेप और हत्या इलाके से इस अल्पसंख्यक समुदाय को हटाने की एक सोची समझी साजिश का हिस्सा थी. इसमें कठुआ स्थित रासना गांव में देवीस्थान मंदिर के सेवादार को मुख्य साजिशकर्ता बताया गया था.

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में 15 पृष्ठों के दाखिल आरोपपत्र के मुताबिक, बच्ची को जनवरी में एक हफ्ते तक कठुआ के रासना गांव में देवीस्थान मंदिर में बंधक बना कर रखा गया था. उससे छह लोगों ने गैंगरेप किया था. बच्ची को नशीली दवा दे कर रखा गया था. उसकी हत्या से पहले दरिंदों ने उसे बार-बार हवस का शिकार बनाया था .

Facebook Comments