केदारनाथ में श्रद्धालुओं को हुए महादेव के ‘दर्शन’….

2017 में जब धाम के कपाट बंद किए गए तो वहां कुछ ऐसा हुआ कि हजारों भक्त आश्वर्य में पड़ गए। बीकेटीसी का दावा है कि केदारनाथ धाम में मंदिर का मुख्य कपाट बंद करने में जब परेशानी हुई तो आराध्य भकुंड भैरव ने पश्वा पर अवतरित हो गए। 

बीकेटीसी के सीईओ बीडी सिंह ने बताया कि केदारनाथ मंदिर के गर्भगृह की दीवारों पर चांदी लगाई गई है। इससे दरवाजे के कुंडे नहीं लग पा रहे थे। कई प्रयास किए, लेकिन दरवाजे के कुंडे नहीं लगे।

उन्होंने दावा किया कि जब कुंडी नहीं लगी तो उन्होंने और वयोवृद्ध तीर्थ पुरोहित श्रीनिवास पोस्ती ने भगवान केदार के क्षेत्रपाल भकुंड भैरव का आह्वान किया। इसके बाद जो हुआ इस पर देखने वाले भी यकीन नहीं कर पाए।

कुछ ही पल में भकुंड भैरव अपने पश्वा अरविंद शुक्ला पर अवतरित हुए। पश्वा की ओर से कुंडे को स्पर्श करते ही दरवाजा दूसरे कुंडे से जुड़ गया। इसके बाद पदाधिकारियों और अधिकारियों की मौजूदगी में ताला लगाया गया।

बीकेटीसी के सीईओ ने बताया कि शीतकाल में केदारनाथ धाम की सुरक्षा भगवान भैरवनाथ के भरोसे होती है। इतना ही नहीं 2013 में आई आपदा के वक्त भी धाम में कई चमत्कार होने की बात कही जाती है।

Facebook Comments