सुबह ४ बजे से भक्तो की तेजी से भीर शुरु……

 

6 महीने बाद केदारनाथ के कपाट खुलने की प्रक्रिया सुबह 4 बजे से शुरू हुई, सबसे पहले डोली को मंदिर के अंदर प्रवेश कराया गया. मंत्रोंच्चारण के बीच जलाभिषेक, रुद्राभिषेक समेत सभी धार्मिक अनुष्ठान संपन्न हुए. इसके बाद करीब 6 बजे पूजा अर्चना करने के बाद द्वार आम लोगों के दर्शन के लिए खोल दिया गया.

भगवान केदारनाथ के मंदिर को 20 क्विंटल गेंदे के फूल से सजाया गया है, इसके साथ ही भोलेनाथ के प्रिय बेलपत्र और पीपल के पत्तों का प्रयोग भी किया गया है. इससे पहले परंपरा के मुताबिक 6 महीने तक ऊखीमठ के ओमकारेश्वर मंदिर में रहने के बाद 26 अप्रैल को ही भगवान शिव की पालकी केदारनाथ के लिए रवाना हो गई थी. आपको बता दें कि 30 अप्रैल को सुबह 4 बजकर 30 मिनट पर बद्रीनाथ मंदिर के कपाट भी खोले जाएंगे.

उत्तराखंड स्थित हिन्दुओं के प्रसिद्ध धर्मस्थल केदारनाथ धाम के कपाट आज पुजारियों के मंत्रोच्चार और श्रद्धालुओं के जयकारे के बीच श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं. कपाट खुलने के बाद मंदिर में पूजा अर्चना की गई, उसके बाद भगवान शिव के दर्शन शुरू हो गए.  कपाट खुलने पर श्रद्धालुओं का बड़ा जत्था बाबा भोलेनाथ के दर्शन के लिए पहुँचने वाला है.

 

Facebook Comments