ललिता पवार वो हीरोइन जिसको एक एक्टर ने मारा था थप्पड़ बिगड़ गया था चेहरा, खत्म हुआ करियर

80 के दशक की एक्ट्रैस ललिता पवार ऐज हमारे बीच नहीं है। उनका निधन 24 फरवरी 1998 को पुणे, महाराष्ट्र में निधन हो गया था।

यूं तो ललिता ने कई फिल्मों और टीवी सीरियल्स में काम किया है, लेकिन आज भी वे घर-घर में ‘रामायण’ की मंथरा के नाम से ही जानी जाती हैं।

बता दें कि 1942 में रिलीज हुई फिल्म ‘जंग-ए-आजादी’ के सेट पर को-एक्टर भगवान दादा ने ललिता पवार को ऐसा थप्पड़ मारा कि उनका करियर ही बर्बाद हो गया। एक इंटरव्यू के दौरान खुद ललिता ने इस घटना का जिक्र किया था। हालांकि, उन्होंने एक्टर और फिल्म का नाम उजागर नहीं किया था।

उन्होंने कहा था, “मैं फिल्म की शूटिंग कर रही थी, जिसमें एक सीन के लिए को-एक्टर को मुझे थप्पड़ मारना था। उस एक्टर को मुझसे गुरेज थी, इसलिए उसने इतनी जोर से थप्पड़ मारा कि मैं फर्श पर गिर पड़ी।

मुझे फेशिअल पैरालिसिस हो गया।” फिर वह बताती है कि “शॉट काफी अच्छे से हो गया, लेकिन मेरी आंखों के सामने अंधेरा छा गया। चार साल तक मेरा इलाज चला और मैं पूरी तरह काम से दूर रही। ये साल मेरे लिए काफी मुश्किल भरे थे। आज भी मेरे चेहरे में स्टिफनेस है।”

 

Facebook Comments