टांगों पर पड़ी सूजन को इग्रोर न करे ……

अक्सर पैरों और टांगों में होने वाले दर्द को लोग इग्नोर कर देते है लेकिन यह वैरिकोज वेन्स का संकेत भी हो सकता है। इस  समस्या से 25 प्रतिशत महिलाएं और 10 प्रतिशत पुरुष प्रभावित होते हैं। वैरिकोज वेन्स शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकती है। वैसे ज्यादातर यह जांघों और टांगों में देखने को मिलती है। इससे स्किन नीली पड़ जाती है, कई बार तो सूजन और तेज दर्द भी होने लगता है।

वैरिकोज वेन्स क्या है

पैरों की नसों में मौजूद वाल्व कमजोर होने पर नसे फैलने लगती है जिससे गांठ बन जाती है। दरअसल, वाल्व पैरों से खून नीचे से ऊपर हृदय की ओर ले जाने में मदद करते है जब ये वाल्‍व खराब हो जाते है तो खून सही तरीके से नहीं चढ़ पाता और पैरों में जमा होने लगता है।

वैरिकोज वेन्स के लक्षण

पैरों में दर्द और सूजन
पैरों में भारीपन महसूस होना
नसों के आसपास खुजली होना

वैरिकोज वेन्स के कारण

कब्ज
मोटापा
गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करना
हार्मोंनल में बदलाव
लंबे समय तक लगातार खड़े रहना

वैरिकोज वेन्स के घरेलू उपचार
कुछ घरेलू नुस्खों को अपनाकर आप वैरिकोज वेन्स की समस्या को कम कर सकते है।

गेंदे का फूल
गेंदे के फूल को पानी में उबाल लें। फिर इसमें कॉटन का कपड़ा भिगोकर प्रभावित जगह पर लगाएं। इससे आराम मिलेगा।

जैतून का तेल
वैरिकोज वेन्स से राहत पाने के लिए वैरिकोज वेन्स सबसे फायदेमंद है। जैतून के तेल से प्रभावित जगह की मालिश करें। इससे ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होगी और दर्द कम होगा। जैतून के तेल में विटामिन-ई तेल मिलाकर लगाने से अधिक फायदा मिलेगा।

लाल शिमला मिर्च
लाल शिमला मिर्च में मौजूद तत्व सूजी हुई नसों के दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। गर्म पानी में एक चम्‍मच लाल शिमला मिर्च के पाउडर को मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करें।

सेब का सिरका
सेब का सिरका ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाता है। प्रभावित जगह पर सेब का सिरका लगाकर मालिश करें। रोजाना सोने से पहले एेसा करें। इसके अलावा एक गिलास पानी में दो चम्‍मच सेब के सिरके को मिलाकर पीएं।

लहसुन
लहसुन में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट गुण दर्द को कम करने में मददगार है। 5-6 लहसुन की कलियां लेकर पीस लें। फिर इसे जार में डालें। इसमें तीन संतरे का रस और जैतून का तेल डालकर मिलाएं। 12 घंटे तक इसे एेसे ही रहने दें। इस मिश्रण को सूजन वाली जगह पर लगाकर मालिश करें।

Facebook Comments