Lifestyle : तंदरुस्त रहना है तो पिएं ढेर सारा पानी, लेकिन सही तरीके से

पानी शरीर और बेहतर सेहत के लिए बहुत जरुरी होता है. इस बात को सभी जानते हैं. दिनभर में कम से कम 8 गिलास पानी जरुर पीना चाहिए लेकिन सिर्फ पानी पी लेने भर से पूरी तरह से फायदा नहीं मिलता है. अगर आपको पानी पीने से जुड़ी कुछ जरुरी बातें ध्यान रखें तो पानी से होने वाले सभी फायदों का पूरा लाभ उठा सकेंगे. आएये जानते हैं कि आयुर्वेद में पानी पीने से जुड़ी कुछ जरुरी सावधानियां जिसे जानना बहुत जरुरी है.

* पानी दिन भर में कई बार पीना चाहिए और कम से कम आठ गिलास पानी हर किसी वयस्क को पीना चाहिए.

* एक बार में एक साथ एक गिलास पानी ना पिएं. दिन भर में कम से कम आठ गिलास पानी पिएं लेकिन गिलास भरकर एक ही बार में ना पिएं. थोड़ा-थोड़ा पानी का ही सेवन करें.

* आयुर्वेद में बताया गया है कि पानी कभी भी खड़े होकर ना पिएं. हमेशा पानी पीते समय बैठ जाएं. बैठते समय मांसपेशियां और नर्वस सिस्टम आराम की मुद्रा में होते हैं ऐसे में पानी पीने से ये आसानी से पच जाता है.

* पानी हमेशा नार्मल टेम्परेचर वाला ही पिएं। बहुत ज्यादा ठंडा पानी नुकसान करता है. सामान्य तापमान वाला पानी ही पिएं। ये पाचन के लिए बेहतर होता है.

* आयुर्वेद की मानें तो पानी तभी पानी चाहिए जब प्यास लगे. पिना प्यास के पानी पिएं भी तो थोड़ा सा ही पिएं. हमेशा प्यास लगने पर ही पिएं.

*  खाना खाने के तुरंत बाद कभी भी पानी ना पिएं. ये खाने के सभी पोषक तत्वों को शरीर में सही तरह से पहुंचने नहीं देता.

* सुबह उठकर खाली पेट पानी पीने की आदत डालें. सुबह खाली पेट पानी पीने से आप दिनभर तरोताजा महसूस करते हैं और कई बीमारियों से लड़ने में मदद मिलती है.

Facebook Comments