किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है मुकेश-नीता की लव स्टोरी

भारत के सबसे अमीर बिजनसमैन Mukesh Ambani के बारे में लोग कई बातें जानते हैं, लेकिन बहुत कम लोग ही उनकी लव स्टोरी के बारे में जानते हैं।  आज आपको बताते हैं मुकेश और नीता की लव स्टोरी जो किसी फिल्मी कहानी जैसी है। जिस वक्त नीता को मुकेश ने प्रपोज किया था उस वक्त मुकेश के पिता धीरूभाई अंबानी बड़े बिजनसमैन बन चुके थे, जबकि नीता मिडिल क्लास फैमिली से आती थी।

इस लव स्टोरी की शुरुआत उस वक्त हुई जब नीता 20 साल की थी। नवरात्रि के दिनों में नीता को बिरला मातोश्री में एक डांस परफॉर्मेंस देने पहुंची थीं। इस कार्यक्रम में होने के लिए मुकेश के पिता धीरूभाई अंबानी और मां कोकिलाबेन भी वहां मौजूद थे। नीता का डांस देखकर दोनों ने उन्हें मुकेश के लिए पसंद कर लिया। बताते हैं कि धीरूभाई ने अगले ही दिन नीता के घर पर फोन मिला दिया। फोन नीता ने उठाया और हेलो कहा। दूसरी तरफ से आवाज आई- मैं धीरूभाई अंबानी बोल रहा हूं। नीता ने रांग नंबर कहकर फोन काट दिया।

धीरूभाई ने दोबारा फोन किया तो नीता ने फोन उठाया। उन्होंने अपनी बात दोहराते हुए कहा-मैं धीरूभाई अंबानी बोल रहा हूं, क्या नीता से बात कर सकता हूं। इस पर नीता ने सोचा कि कोई उनसे मजाक कर रहा है, तो उन्होंने भी कह दिया कि अगर आप धीरूभाई अंबानी हैं तो मैं एलिजाबेथ टेलर हूं। ये कहते हुए उन्होंने फोन काट दिया। कुछ देर बाद दोबारा फोन की घंटी बजी और इस बार नीता के पिता ने फोन उठाया और नीता को बुलाकर कहा-तरीके से बात करना, क्योंकि फोन पर वाकई धीरूभाई अंबानी हैं।

इसके बाद नीता ने धीरूभाई से बात की और धीरूभाई ने उन्हें अपने आफिस बुलाया। अगले दिन नीता अपने पिता के साथ उनके ऑफिस पहुंची और दोनों के बीच बातचीत शुरू हुई। इस दौरान धीरूभाई ने कहा कि तुम एक बार मेरे बेटे मुकेश से मिलो। बाद में नीता उनके घर पहुंची और पहली बार नीता और मुकेश की मुलाकात दरवाजे पर हुई, जब खुद मुकेश गेट खोलने पहुंचे। नीता के मुताबिक, मुकेश से 6ठी या 7वीं मुलाकात के बाद भी वो कम्फर्ट महसूस नहीं करती थीं। उन्होंने सोच लिया था कि आगे का फैसला वे पढ़ाई पूरी होने के बाद ही लेंगी।

नीता बताती हैं कि एक बार वो और मुकेश कार से Mumbai के पेडर रोड से निकले। शाम के करीब 7:30 बज रहे थे और ट्रैफिक ज्यादा था। कार एक सिग्नल पर रुकी, तभी मुकेश ने फिल्मी अंदाज में नीता से पूछा, “क्या तुम मुझसे शादी करोगी?” नीता ने शर्माते हुए चेहरा नीचे कर लिया और मुकेश से गाड़ी चलाने को कहा। सिग्नल खुला लेकिन मुकेश ने गाड़ी आगे नहीं बढ़ाई। इस दौरान पीछे से कई गाड़ियां हॉर्न बजा रही थीं, लेकिन मुकेश ने कहा, “जब तक तुम जवाब नहीं दोगी, तब तक मैं गाड़ी नहीं चलाऊंगा।” इस बीच रोड पर ट्रैफिक जाम जैसे हालात बन रहे थे। तब नीता ने जवाब दिया था, “यस.. आई विल.. आई विल।”

इस प्रपोजल के बाद नीता ने थोड़ी दूरी पर गाड़ी रुकवाई और मुकेश को गाड़ी से बाहर निकलने को कहा। जब वे बाहर आए तो नीता ने उनसे कहा कि आप अमीर हैं और मैं गरीब। अगर आप वाकई मुझसे प्यार करते हैं तो आपको मेरे साथ मेरी तरह बस में सफर करना होगा। मुकेश ने तुरंत हामी भर दी और दोनों बस पर सबसे आगे वाली सीट पर बैठकर जुहू बीच तक साथ गए। इससे नीता काफी Impress हुईं और मुकेश के प्रति उनके दिल में प्यार और बढ़ गया। अगले दिन मुकेश ने अपने पिता से कहा कि वे नीता से शादी करना चाहते हैं। इसके बाद Dhirubhai Ambani ने नीता के पिता से रिश्ते की बात की और सामने से जवाब हां में आया। इसके कुछ दिनों बाद 8 मार्च 1984 को नीता और मुकेश शादी के बंधन में बंध गए।

Facebook Comments