Dharm : सबरीमाला मंदिर में श्रीलंका की महिला को नहीं मिला प्रवेश, पति-बेटे ने किया दर्शन

केरल के सबरीमाला मंदिर में श्रीलंका की महिला शशिकला के मंदिर में प्रवेश की मीडिया रिपोर्ट को खुद महिला ने खारिज कर दिया है। महिला का कहना है कि वह सबरीमाला मंदिर के भीतर प्रार्थना के लिए गई थी लेकिन लेकिन मुझे अंदर नहीं जाने दिया गया। महिला ने बताया कि मेरे पास मेडिकल सर्टिफिकेट भी था लेकिन बावजूद इसके मुझे मंदिर में दर्शन के लिए नहीं जाने दिया गया। महिला ने कहा कि रजोनिवृत्ति का मेडिकल सर्टिफिकेट देने के बाद भी उन्हें मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया गया।

भागने लगे पुलिस वाले

महिला के पति ने कहा कि हमे मंदिर से एक किलोमीटर दूर ही रोक दिया गया, हमे मरकूतम में ही रोक दिया गया था। उन्होंने बताया कि जब मीडिया का कैमरा आया तो पुलिस एक बार फिर से साथ आ गई थी लेकिन मेरी पत्नी को दर्शन नहीं करने दिया गया। महिला के पति और बच्चे को मंदिर में दर्शन के लिए जाने दिया गया था। स्थानीय टीवी चैनल ने वीडियो टेलीकास्ट किया जिसमे देखा जा सकता है कि दो पुलिसवाले सादी वर्दी में भक्त के तौर पर मंदिर के भीतर जा रहे हैं। लेकिन जब कैमरे की नजर उनपर पड़ी तो दोनों ने पहले अपने चेहरे को ढक लिया, जब कैमरे ने उनका पीछा किया तो वो लोग वहां से भागने लगे।

वापस लौटना पड़ा

शशिकला ने बताया कि मैं भक्त हूं, मैं यहां पूजा करने आई थी, मैंने व्रत के 48 दिन पूरे कर लिए हैं, ऐसे में ये लोग कौन होते हैं मुझे वापस भेजने वाले। नाराज शशिकला ने कहा कि मुझे मंदिर में दर्शन के लिए नहीं जाने दिया, बावजूद इसके कि मैंने अपना मेडिकल सर्टिफिकेट उन्हें दिखाया। जब मुझे मंदिर के अंदर नहीं जाने दिया तो मजबूरन मुझे वापस लौटना पड़ा।

दो महिलाओं ने किया था दर्शन

आपको बता दें कि इससे पहले दो महिलाओं के मंदिर में प्रवेश के बाद मंदिर के मुख्य पुजारी ने मंदिर का शुद्धिकरण करने के लिए मंदिर को बंद कर दिया था। इन दो महिलाओं के मंदिर में प्रवेश के बाद प्रदेशभर में हिंदू संगठनों ने इसका विरोध किया था। भाजपा और कांग्रेस ने ने मुख्यमंत्री पिनारयी विजयन पर हमला बोला था और उनपर मंदिर की परंपरा तोड़ने का आरोप लगाया था। यही नहीं मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के बाद प्रदेश में हड़ताल का ऐलान किया गया था। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने कई जगह तोड़फोड़ की थी।

 

Facebook Comments