तीसरे दिन का खेल खत्म, मजबूत स्थिति में इंग्लैंड

टीम इंडिया की पहली पारी को 292 रन पर समेटने के बाद इंग्लैंड ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक 2 विकेट के नुकसान पर 114 रन बना लिए हैं। आज स्टंप के समय एलिस्टर कुक (46*) और कप्तान जो रूट (29*) नाबाद पविलियन लौटे। इस तरह इंग्लैंड ने अपनी बढ़त को 154 रन पर पहुंचा दिया है। मेजबान टीम को पहली पारी के आधार पर 40 रन की बढ़त हासिल हुई थी। अब इंग्लैंड मैच के चौथे दिन भारत के सामने बड़ा लक्ष्य देकर इस मैच को भी अपने कब्जे में करना का जोर लगाएगा। सोमवार को इंग्लैंड को रूट और कुक की जोड़ी से इस मैच में बड़ी और निर्णायक पारी की उम्मीद रहेगी।

इस मैच से पहले पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक का बल्ला बिल्कुल खामोश था। सीरीज के पहले 4 टेस्ट की 7 पारियों में उनके बल्ले से कुल 109 रन ही निकले थे। कुक ने इस टेस्ट से पहले अपने संन्यास का ऐलान कर दिया और अपने करियर के अंतिम टेस्ट में वह जिस अंदाज में खेल रहे हैं वह काबिलेतारीफ है। पहली पारी में 71 रन बनाने के बाद इस पारी में भी उन्होंने गजब का धैर्य दिखाया और आज दिन का खेल खत्म होने तक वह नाबाद पविलियन लौटे। कुक के धैर्य का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 123 बॉल की अपनी इस पारी में उन्होंने सिर्फ 3 ही चौके जड़े।

इंग्लैंड की टीम के लिए भले ही इस सीरीज मे सबकुछ सही बीत रहा हो। लेकिन केटन जेनिंग्स का फॉर्म उसके लिए चिंता की बात रही है। इस सीरीज में जेनिंग्स की यह 10वीं पारी थी और इस बार भी उन्होंने निराश ही किया। वह 10 बनाकर शमी का शिकार बने। जेनिंग्स इस सीरीज में एक भी फिफ्टी नहीं जमा पाए। इसके बाद पिछली पारी में अर्धशतक जड़ने वाले मोईन अली इस बार कुछ खास नहीं कर पाए। मोईन को 20 रन के व्यक्तिगत स्कोर पर रविंद्र जडेजा ने बोल्ड कर पविलियन लौटाया।

इसके बाद मैच की पहली पारी में फ्लॉप रहे कप्तान जो रूट ने कुक के साथ अपने पांव जमा लिए। रूट कुक के साथ नाबाद पविलियन लौटे। इससे पहले आज मैच के तीसरे दिन रविंद्र जडेजा (86*) और अपने इंटरनैशनल करियर का पदार्पण कर रहे हनुमा विहारी (56) की शानदार पारियों ने मुश्किल में फंसी टीम इंडिया को संकट से उबारने का काम किया। भारत की पहली पारी 292 रन पर समाप्त हुई और पहली पारी के आधार पर वह मेजबान टीम से 40 रन पीछे रह गया। आज भारत ने अपने अंतिम 4 विकेट गंवाने तक 118 रन जोड़े। इस दौरान हनुमा विहारी और रविंद्र जडेजा ने अपनी-अपनी फिफ्टी भी पूरी की। 7वें विकेट के रूप में हनुमा विहारी जब आउट हुए तब भारत का स्कोर 237 रन था। इसके बाद जडेजा ने अंतिम 3 बल्लेबाजों के साथ 55 रन जोड़े।

Facebook Comments