रिटायरमेंट की उम्र में स्कूल जा रहा ये 73 साल का बुजुर्ग….

73 साल के बुज़ुर्ग का नाम लालरिंगथारा है और वो मिजोरम के चम्फाई जिले के न्यू रुआईकॉन गांव में रहते हैं। इन्होंने उम्र के इस पड़ाव पर अपने सपने को पूरा करने की ठानी है।

जिस उम्र में लोग रिटायरमेंट ले लेते हैं और जीवन के बचे दिन पूजा-पाठ में बिताते हैं, उसी उम्र में एक ऐसे भी शख्स हैं जो पढ़ाई करने स्कूल जाते हैं।

लालरिंगथारा ने गांव के एकमात्र माध्यमिक स्कूल में 5वीं कक्षा में एडमिशन कराया है। वो रोज़ सुबह स्कूल जाते हैं, स्कूल में वो पीटी भी करते हैं और फिर घर आकर होमवर्क भी। बताया जाता है कि 1945 में भारत-म्यांमार बॉर्डर के करीब खुआंगलेंग गांव में जन्मे लालरिंगथारा ने दो साल की उम्र में ही अपने पिता को खो दिया। अपने पिता की वो अकेली संतान थे।

पिता के जाने के बाद घर चलाने में मां की मदद करने लगे। ऐसे में स्कूल छूट गया और पढ़ाई एक सपना बनकर रह गई। नौकरी के लिए कई अलग जगहों पर जाने के बाद कुछ सालों पहले वो अपना गांव छोड़कर न्यू रुआईकॉन गांव में हमेशा के लिए बस गए। यहां वो एक चर्च में चौकीदारी करने लगे।

 

यहीं पर अपना सपना पूरा करने के लिए आखिरकार एक स्कूल में दाखिला ले लिया। अब वो दिन में स्कूल जाते हैं और रात को चौकीदारी करते हैं। लालरिंगथारा मीज़ो भाषा में पढ़-लिख लेते हैं पर अंग्रेजी से उनका बड़ा लगाव रहा है। पढ़ाई का जुनून और अंग्रेजी सीखने की इस धुन में ही लालरिंगथारा ने स्कूल में दाखिला कराया। अपने से 60 साल छोटे बच्चों के साथ क्लासरूम साझा करने में बेशक लालरिंगथारा को थोड़ा अजीब लगता है, पर अपने सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने इस हिचक को भी दूर कर लिया है।

 

Facebook Comments