Uttar Pradesh : स्कूल बस से उतारने के दौरान मासूम से छेड़खानी करते थे ड्राइवर और खलासी

भेलूपुर थाना क्षेत्र के महमूरगंज इलाके में स्थित डालिम्स स्कूल के एलकेजी की पांच वर्षीय छात्रा से स्कूल वाहन के चालक व खलासी छेड़खानी करते थे। छात्रा ने जब यह बात मां को बताई तो उन्होंने स्कूल में शिकायत की। कोई सुनवाई नहीं होने पर मां ने चालक व दो खलासी के खिलाफ भेलूपुर थाने में पॉक्सो एक्ट व छेड़खानी में केस दर्ज कराया। पुलिस तीनों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

यूपीः मोदी वाराणसी को देंगे ढाई हजार करोड़ के ‘उपहार’

तहरीर के अनुसार, तुलसीपुर की पांच वर्षीय बच्ची स्कूल के वाहन से पढ़ने जाती है। कुछ दिनों पहले उसने मां से शिकायत की कि स्कूल वाहन से उतारने के दौरान ड्राइवर व दो खलासी गलत जगह पर छूने लगते हैं। इसके बाद मां ने स्कूल से शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। परिजन भेलूपुर थाने पहुंचे और रोहनिया निवासी चालक संजय विंद, खलासी राजन वर्मा और घाटमपुर निवासी आशु पटेल के खिलाफ पॉक्सो एक्ट व छेड़खानी की धाराओं में केस दर्ज कराया। इंस्पेक्टर भेलूपुर प्रवीण कुमार ने बताया कि केस दर्ज कर लिया गया है और तीनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जांच के बाद नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। स्कूल प्रबंधन से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन संपर्क नहीं हो पाया।

परिजनों ने स्कूल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि शिकायत के बावजूद स्कूल प्रशासन ने कोई कदम नहीं उठाया। इस संबंध में चालक व खलासी से पूछताछ भी उचित नहीं समझा गया। इसी वजह से बच्ची के साथ फिर से गलत हरकत की गई।

स्कूल बस से संबंधित दिशा-निर्देशः

  • बस स्टाफ का पुलिस वेरिफिकेशन अनिवार्य रूप से होना चाहिए
  • बस में प्रशिक्षित कर्मचारी होने चाहिए, महिला कर्मचारी को प्राथमिकता मिलनी चाहिए
  • प्रत्येक बस में कम से कम एक महिला शिक्षक भी बच्चों के साथ रहे
  • बस के अंदर सीसीटीवी कैमरा होना चाहिये
  • पाक्सो एक्ट के तहत अगर कोई शिकायत आती है तो उसके निस्तारण के लिए आंतरिक समिति होनी चाहिए, जिसमें अभिभावकों का प्रतिनिधित्व हो।

(उपरोक्त सुझाव बाल संरक्षण आयोग के निर्देश पर सीबीएसई कई बार स्कूलों को भेज चुका है)

Facebook Comments