आॅल इंडिया मेडिकल परीक्षा घोटाला,60 से 90 लाख लेकर मेडिकल परीक्षा पास करने का वसूला…

दिल्ली स्पेशल क्राइम ब्रांच की टीम के अनुसार नोएडा में आॅनलाइन मेडिकल भर्ती परीक्षा के दौरान प्रश्नपत्र लीक होने की आशंका पर प्राथमिकी संख्या 13-17 अंकित है। जिसकी जब जांच आरंभ हुई, तो सामने आया कि इसमेंबड़ा रैकेट काम कर रहा है। जो मेडिकल की  प्रवेश परीक्षा पास कराने के नाम पर 60 से 90 लाख तक वसूली करता है।

दिल्ली तीस हजारी कोर्ट, आशु गर्ग, सीएमएम द्वारा डॉ. नीतीश के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया है। जिसमें उसकी गिरफ्तारी को लेकर डीएमसीएच में छापामारी की गई। वहां से वह फरार हो गया। उसके खगड़िया स्थित घर पर छापामारी की गई,जहां भी वह गायब मिला।’

आॅल इंडिया मेडिकल परीक्षा घोटाला में खगड़िया के डॉ. नीतीश कुमार की संलिप्तता सामने आई है। गुरुवार को दिल्ली स्पेशल क्राइम ब्रांच की टीम ने चित्रगुप्तनगर पुलिस के सहयोग से डॉ. नीतीश के न्यू राजेंद्र कॉलोनी स्थित आवास पर छापामारी की।

छापामारी के दौरान डॉ. नीतीश गायब मिले। छापामारी का नेतृत्व दिल्ली स्पेशल क्राइम ब्रांच के सब इंस्पेक्टर देवेंद्र कुमार व उमेश कुमार कर रहे थे। टीम द्वारा डॉ. नीतीश के घर की तस्वीर तीस हजारी कोर्ट दिल्ली मेंप्रस्तुति  हेतु खींची गई।

सब इंस्पेक्टर के अनुसार डॉ. नीतीश दरभंगा मेडिकल कॉलेज में एमडी का छात्र है। बुधवार को डीएमसीएच में छापामारी के दौरान वह गायब मिला। हॉस्टल में उसका कमरा  भी खाली था।

इस मामले में पीएमसीएच का टाॅपर डाॅ. जोन मेहता की गिरफ्तारी की गई। उसी मामले में खगड़िया के डा. नीतीश का भी नाम सामने आया है। टीम के अनुसार दो सौ से अधिक ऐसे फर्जी डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई की प्रक्रिया चल रही है। अब तक 15-16 डॉक्टरों को इस मामले में जेल भेजा जा चुका है।

 

Facebook Comments