ऐतिहासिक फैसला मोदी सरकार का, बच्चों से दुष्कर्म के मामले पर रेपिस्ट को होगी फांसी

 जल्द ही सरकार कानून लाने जा रही है जिसके तहत 12 साल से कम उम्र की नाबालिग बच्ची से बच्चे से घिनौनी हरकत करने वाले को फांसी की सजा दी जाएगी।
देश भर में बच्चों के साथ रेप और कुकर्म की बढ़ती वारदातों के बीच सरकार ने ऐतिहासिक फैसला लिया है।

 

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने शनिवार को कहा कि उनका मंत्रालय प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस (पॉक्सो) एक्ट में संशोधन का एक प्रस्ताव तैयार कर रहा है। इसमें 12 साल से कम उम्र की नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले को मौत की सजा दिए जाने का प्रस्ताव। उन्होंने कहा कि कड़ी सजा मजबूत प्रतिरोधक के तौर पर कार्य करेगी।

 

फेडरेशन ऑफ गुजरात इंडस्ट्रीज द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि इस संबंध में कैबिनेट नोट तैयार करने के बाद उनका मंत्रालय इसे कानून मंत्रालय समेत विभिन्न मंत्रालयों को विचारार्थ भेजेगा। मेनका का यह बयान जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ बर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म और उसकी हत्या के संदर्भ में आया है। इस घटना पर देशभर में तीखी प्रतिक्रिया हुई है। पॉस्को एक्ट में फिलहाल मौत की सजा का कोई प्रावधान नहीं है। इस अधिनियम के तहत अधिकतम उम्र कैद की सजा ही दी जा सकती है।

 

Facebook Comments