MP में एक बार फिर बढ़ी पानी की परेशानी…..

दरअसल एमपी के टीकमगढ़ जिले का एक गांव ऐसा है जहां बिल्कुल भी पानी नहीं बचा है।

बता दें कि टीकमगढ़ के अटरिया गांव के लोग पांच किलोमीटर दूर पैदर चलकर उत्तर प्रदेश के ललितपुर से पानी लाकर अपनी प्यास बुझा रहे हैं। पिछले तीन महीनों से इस गांव के सारे ट्यूबवेल खराब हो चुके हैं। कुएं खाली हो चुके हैं। पानी के जितने स्त्रोत हैं सब सूख चुके हैं इस इलाके में पानी की किल्लत इतनी है लोग पानी की एक बूंद को तरश रहे हैं।

बुंदेलखंड इलाके में आने वाले इस गांव की जनसंख्या 3,000 है। लोगों ने बताया कि यह लगातार तीसरा साल है जब लोगों को यहां बूंद-बूंद पानी के लिए तरसना पड़ रहा है। लोगों ने बताया कि यूपी के बॉर्डर में स्थित गांव के लोग पांच किलोमीटर दूर यूपी में ललितपुर जिले के पथराई गांव जाते हैं। वहां से पानी लाने के लिए वे साइकल और बैलगाड़ी का प्रयोग करते हैं।

लोगों ने बताया कि पानी की समस्या का मुद्दा उन्होंने कई बार जन सुनवाई में उठाया है। जिला प्रशासन को बार-बार सूचना दी गई। यहां तक कि  सीम हेल्पलाइन पर भी शिकायत की लेकिन उन लोगों की तरफ से इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई।

पानी की कमी से परेशान ग्रामीण हरलाल ने बताया कि इतनी गर्मी में लोग नहा नहीं पा रहे हैं। लोगों को पीने का पानी तक नहीं मिल रहा है। जानवर भी प्यास से तड़फ रहे हैं। छात्र राजेंद्र पटेल ने बताया कि घर में पानी भरकर लाना पड़ता है इसलिए वह स्कूल नहीं जा पाता। लोगों ने बताया कि गांव में पिछले साल बारिश न होने से पानी की किल्लत और गहरी हो गई।

 

Facebook Comments