अचानक दूल्हे के पास एक ऐसा पार्सल जिसने दो परिवारों को किया तबाह…

ये घटना 23 फरवरी की है। उस दिन सौम्‍य और रीमा किचन में खड़े बातें कर रहे थे, तभी दरवाजे पर दस्‍तक हुई। एक डिलीवरी मैन ने पार्सल दिया। उस पार्सल में भेजने वाले का नाम-पता रायपुर का लिखा था। सौम्‍य ने उसे खोलने से पहले कहा कि रायपुर में तो वह किसी को जानते नहीं हैं। इस बीच उनकी दादी भी सरप्राइज गिफ्ट देखने पहुंच गईं।

23 फरवरी को छोटे से शांत बोलांगीर जिले के पटनागढ़ के एक घर में पार्सल बम विस्‍फोट ने पूरे ओडिशा को हिला कर रख दिया। शादी के गिफ्ट में छिपे इस पार्सल बम की वजह से 24-25 साल के सॉफ्टवेयर इंजीनियर सौम्य शेखर और उनकी दादी (85) की मौत हो गई।

उनकी पत्नी रीमा साहू गंभीर रूप से घायल हो गईं। सौम्‍य और रीमा की उससे महज पांच दिन पहले शादी हुई थी। गंभीर रूप से रीमा का इलाज यहां के एससीबी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में किया जा रहा है।

इस घटना के एक महीना गुजरने के बावजूद बोलांगीर पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला है। सौम्‍य शेखर को आखिर किसने और क्‍यों मारा? पुलिस इस दिशा में अभी तक कोई सुराग नहीं खोज पाई है। इसलिए शादी के पांच दिन बाद ही अपने पति को खोने वाली रीमा साहू ने ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से न्याय की गुहार लगाई है।

रीमा ने कहा, ”मैं न्याय चाहती हूं और मैने मुख्यमंत्री से इस घटना की पूरी जांच कराने और आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए राज्य पुलिस को निर्देश देने का आग्रह किया।” इस मुद्दे पर चर्चा के लिए हाल ही में राज्य की राजधानी में उसके परिवार के सदस्यों ने भी मुख्यमंत्री से मुलाकात की थी। मुख्यमंत्री कार्यालय के एक करीबी सूत्र ने बताया कि पटनायक ने परिवार को आश्वासन दिया कि राज्य पुलिस मामले को सुलझाने के लिए सब कुछ करेगी।

उसके बाद जैसे ही उसको खोला गया तो भीषण विस्‍फोट हुआ। तीनों लोग वहीं गिर गए। पड़ोसियों को पहले लगा कि गैस सिलेंडर में विस्‍फोट हुआ लेकिन बाद में तस्‍वीर साफ हुई। अस्‍पताल ले जाने के दौरान रास्‍ते में ही सौम्‍य और दादी की मौत हो गई। रीमा बच गईं लेकिन अभी भी उनका इलाज चल रहा है।

 

Facebook Comments