सरकार से मिले 90 लाख रु. का कर दिया सचिन ने बच्चों के नाम दान..

इसमें लिखा है कि प्रधानमंत्री ने इस सहृदयता के लिए आभार व्यक्त किया है. यह योगदान संकटग्रस्त लोगों को सहायता पहुंचाने में बहुत मददगार होगा.

महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने संसद में पिछले छह साल में राज्यसभा सांसद के तौर पर वेतन और भत्ते में मिले करीब 90 लाख रुपये प्रधानमंत्री राहत कोष में दान कर दिए. उनका कार्यकाल 26 अप्रैल को खत्म हो रहा है. हाल में उन्हें अन्य रिटायर हो रहे सांसदों के साथ औपचारिक विदाई दी गई. भारत रत्न से सम्मानित सचिन को 26 अप्रैल 2012 को राज्यसभा सांसद मनोनीत किया गया था. वह राज्यसभा पहुंचने वाले पहले सक्रिय खिलाड़ी और क्रिकेटर थे. उन्होंने 2013 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लिया था. बतौर सांसद उन्हें कांग्रेस नेता राहुल गांधी के पड़ोस में बंगला आवंटित किया गया था लेकिन उन्होंने लेने से इनकार कर दिया था.

कुछ माह पहले सचिन सदन में राइट टू प्ले पर अपनी बात रखने के लिए खड़े हुए लेकिन हंगामे के चलते अपनी बात नहीं रख सके थे. प्रधानमंत्री कार्यालय ने सचिन के इस कार्य के लिए आभार पत्र जारी किया है. इसमें लिखा है कि प्रधानमंत्री ने इस सहृदयता के लिए आभार व्यक्त किया है. यह योगदान संकटग्रस्त लोगों को सहायता पहुंचाने में बहुत मददगार होगा.

सचिन ने अपनी सांसद निधि का बहुत अच्छे तरीके से इस्तेमाल किया. उनके कार्यालय के आंकड़ों के अनुसार, उन्होंने देशभर में 185 परियोजनाओं को मंजूरी देने और उन्हें आवंटित 30 करोड़ रुपये में से 7.4 करोड़ रुपये शिक्षा और ढांचागत विकास में खर्च किया. सांसद आदर्श ग्राम योजना कार्यक्रम के तहत सचिन ने दो गांवों को भी गोद लिया. इनमें आंध्र प्रदेश का पुट्टम राजू कंडरीगा और महाराष्ट्र का दोंजा गांव शामिल है. सचिन ने हाल ही में अपने सांसद स्थानीय क्षेत्र विकास कोष से उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा स्थित एक स्कूल के लिए 40 लाख रुपये जारी किए थे.

Facebook Comments