किन्नरों के समर्थन में उतरे गंभीर, कहा- मर्द या औरत नहीं हमें इंसान बनना चाहिए

 भारतीय टीम से धाकड़ बल्लेबाज गौतम गंभीर  इन दिनों टीम इंडिया हिस्सा का नही हैं। लेकिन  आजकल सोशल वर्क में वह काफी सक्रिय है। गंभीर देश से जुड़े समसामयिक मुद्दों पर भी सोशल मीडिया के जरिये अपनी राय बेबाकी से रखते हैं। वह सीधे शब्‍दों में अपनी बात दूसरों के सामने पेश करते हैं। इन दिनों गौतम गंभीर अपनी एक फोटो के चलते सुर्ख़ियों में है। हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान माथे पर बिंदी लगाए और दुपट्टा डाले गौतम गंभीर की फोटो खूब वायरल हो रही है।

दरअसल, गौतम गंभीर समाज में उपेक्षा और भेदभाव के कारण परेशानी झेल रहे किन्‍नर समाज के प्रति अपना प्यार और समर्थन जाहिर करने के लिए इस कार्यक्रम में पहुंचे थे। ये प्रोग्राम ‘हिजड़ा हब्‍बा’ के उद्घाटन के लिए रखा गया था। कार्यक्रम में किन्‍नरों ने दिग्गज क्रिकेटर गंभीर को उनकी तरह तैयार होने में मदद की थी। जिसकी तस्वीर गंभीर ने सोशल मीडिया पर अपलोड की। पहले तो गंभीर का यह रूप देखकर लोग दंग रह गए, लेकिन जब सच्चाई का पता चला तो उन्हें लगातार तारीफ मिल रही है। गंभीर मानना है कि किन्नर सम्मान के हकदार हैं।

 

यह कोई पहली बार नहीं हैं, इससे पहले भी गंभीर किन्नर समाज के समर्थन के लिए आगे आये हैं। गंभीर ने रक्षा बंधन के मौके पर किन्नरों से राखी बंधवाकर तारीफ बटोरी थी। इसके अलावा, वह कई मुद्दों पर अपनी बात रख चुके हैं। कश्मीर में आतंकी हमले में शहीद हुए एएसआई अब्दुल रशीद की बेटी जोहरा की मदद का मुद्दा हो या छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में शहीद हुए जवानों के बच्चों की शिक्षा के खर्च की बात, गंभीर ने ऐसे मामलों में खुलकर अपनी आवाज बुलंद की है।

गंभीर ने छत्तीसगढ़ में पिछले साल अप्रैल में हुए नक्सली हमले में शहीद हुए 25 जवानों के बच्चों की पढ़ाई का खर्च गौतम गंभीर फाउंडेशन के जरिए वहन करने का ऐलान किया था। आपको बता दें कि 36 साल के गंभीर भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। उन्होंने आईपीएल 2018 में कोलकाता नाइट राइडर्स फ्रेंचाइजी से भी खुद को अलग कर लिया हैं। आईपीएल-11 में खराब प्रदर्शन के बाद अनुभवी गंभीर ने तत्काल प्रभाव से दिल्ली डेयरडेविल्स की कप्तानी भी छोड़ दी थी।

Facebook Comments