आखिर क्या राज था नेपोलियन की सफलता का आई जाने …..

 जो इंसान जीवन में मुश्किलों का सामना करने का साहस दिखता है जीवन में उसकी कभी भी हर नहीं होती और इसके बाद नेपोलियन ने कहा -“एक लीडर आशा का व्यापारी होता है. “

नेपोलियन बोनापार्ट, फ्रांस की धरती पर जन्मे एक महान निडर और साहसी शासक थे. नेपोलियन विश्व के महान और अजेय सेनापतियों में से एक है. यह फ्रान्स की क्रान्ति में सेनापति के रूप में  इनकी बहादुरी और जोखिम उठाने के साहस ने इन्हे इतिहास में महान बना दिया. उनकी प्रसिद्द वीरगाथाओं में से एक किस्सा यह भी है कि जब उन्होंने अपनी सेना के साथ आलपास पर्वत को पार करने का ऐलान किया तो उनकी सेना में एकाएक भगदड़ मच गई.चूँकि आलपास पर्वत बहुत विशाल और आसमान को छूती हुई नज़र आने वाली पहाड़ी थी इस पर चढाई के आदेश ने उनके सैनिको में डर पैदा कर दिया.

 

इस खबर के फैलते ही एक बूढ़ी औरत नेपोलियन के पास आई और कहा – “बेटा, क्यों मरना चाहते हो? आजतक कोई भी इस पहाड़ी पर नहीं चढ़ पाया है. इस फैसले से तुम्हारी जान भी जा सकती है. चले जाओ यहाँ से. ” उस बुजुर्ग औरत के कहने के बाद नेपोलियन उसकी बात पर गुस्सा होने की जगह प्रेरित होकर अपने फैसले पर अडिग हो गए और अपनी गले के हर को उस औरत को पहनाते हुए बोले, ” आपने यह बोलकर मेरे उत्साह में दुगुनी वृद्धि कर दी और मुझे प्रेरित किया है लेकिन जब में पहाड़ प् चढाई पूरी कर लूंगा तो आप ही सबसे पहले मेरी जय-जयकार करना. ”

 

नेपोलियन की यह बात सुनकर बोला की तुम पहले ऐसे शख्स हो जो मेरी बात को सुनकर निराश नहीं हुए उल्टा उसे प्रेरक मानकर आगे बढ़ रहें हो. जो इंसान जीवन में मुश्किलों का सामना करने का साहस दिखता है जीवन में उसकी कभी भी हर नहीं होती और इसके बाद नेपोलियन ने कहा -“एक लीडर आशा का व्यापारी होता है. “

Facebook Comments