कई हिट फिल्मों के बाद भी खेतों में काम कर रहे नवाजुद्दीन सिद्दीकी….

19 मई, 1974 को जन्मे नवाज आज पूरे 44 साल के हो गए हैं। यूपी के छोटे से कस्बे बुढ़ाना में जन्मे नवाज 15 साल तक बॉलीवुड में संघर्ष करने के बाद अपनी पहचान बना पाए। एक जमाने में वॉचमैन रह चुके नवाज आज भी वक्त निकालकर अपने गांव जाते हैं और खेती-बाड़ी भी करते हैं। 

 

नवाज ने करियर की शुरुआत 1999 में आई फिल्म ‘सरफरोश’ से की, जिसमें उनका छोटा सा रोल था। इस शुरुआत के बारे में किसी को खबर तक नहीं हुई। साल 2012 तक नवाज ने कई छोटी-बड़ी फिल्मों में काम किया, लेकिन उन्हें कोई खास पहचान नहीं मिली। फिर अनुराग कश्यप उन्हें फैजल बनाकर ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में लाए और फैजल के रोल ने उन्हें घर-घर में पॉपुलर बना दिया। अब जबकि नवाज इंडस्ट्री के टॉप एक्टर्स में शुमार हो चुके हैं, तो लोग यह सोचकर हैरान होते हैं कि आखिर नवाज अपने हर रोल में कैसे ढल जाते हैं?

इस बारे में एक इंटरव्यू में जब नवाज से पूछा गया था, तो उन्होंने कहा- मैं अपने गांव चला जाता हूं और वहां जाकर अपने खेतों की देखभाल करता हूं। कुछ दिन वहां खेती करते हुए बिताता हूं। नवाजुद्दीन के मुताबिक, ऐसा करने से उनके मन को सुकून मिलता है और इसके बाद वो नए किरदार की तैयारी में जुट जाते हैं। नवाजुद्दीन के मुताबिक, हम सात भाई और दो बहनें हैं और पिता किसान थे। घर में फिल्म का नाम लेना भी अच्छा नहीं समझा जाता था।

वो बताते हैं कि किसी तरह धक्के खाते हुए हरिद्वार की गुरुकुल कांगड़ी यूनिवर्सिटी से साइंस में ग्रैजुएशन किया। फिर भी जॉब नहीं मिली तो दो साल इधर-उधर भटकता रहा। बड़ौदा की एक पेट्रोकेमिकल कंपनी थी, उसमें डेढ़ साल काम किया। वह नौकरी ख़तरनाक थी। तमाम तरह के केमिकल की टेस्टिंग करनी पड़ती थी। फिर जॉब छोड़ दी, दिल्ली चला आया और नई नौकरी तलाश करने लगा। वाचमैन की नौकरी भी की।

नवाज के मुताबिक, काम तो मिला नहीं, लेकिन एक दिन किसी दोस्त के साथ नाटक देखने चला गया। प्ले देखकर दिल खुश हो गया। इसके बाद कई नाटक देखे। धीरे-धीरे रंगमंच का जादू सिर चढ़कर बोलने लगा। खुद से कहा- यार! यही वो चीज है, जो मैं करना चाहता हूं। कुछ अरसे बाद एक ग्रुप ज्वाइन कर लिया- साक्षी, सौरभ शुक्ला वगैरह उससे जुड़े थे… तो ऐसे नाटकों से ज़िंदगी जुड़ गई, लेकिन थिएटर में पैसे मिलते नहीं हैं। रोजमर्रा का खर्च चलाना मुश्किल हो रहा था। शाम की रोटी का इंतज़ाम हो सके, इसकी खातिर शाहदरा में वॉचमैन की नौकरी करने लगा।”

Facebook Comments