नए खिलाड़ियों की हमसे तुलना अभी जल्दी है, 15 साल खेलकर खिलाड़ी बनता है द्रविड़ या सचिन- गांगुली

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का मानना है कि मौजूदा भारतीय टीम को अधिक समय देने की आवश्यकता है, तभी उनकी तुलना भारत की पिछली टीमों से हो सकती है। सीएनएन-न्यूज 18 ने शनिवार को गांगुली के हवाले से बताया, “दो पीढ़ियों की तुलना करना बहुत मुश्किल होता है। लेकिन हर पीढ़ी ने गावस्कर, कपिल देव, तेंदुलकर जैसे चैंपियन दिए हैं और मैं समझता हूं कि कोहली इस पीढ़ी के चैंपियन है।

15 साल खेलने के बाद गांगुली, द्रविड़ या सचिन बन पाए थे
मौजूदा भारतीय टीम की तुलना करने से पहले इस पीढ़ी को सात से आठ वर्षो तक का समय देने की आवश्यकता है क्योंकि हम 15 साल खेलने के बाद गांगुली, द्रविड़ या सचिन बन पाए थे।” सौरव गांगुली ने कहा, “कोहली और धोनी 10 से 11 वर्ष खेले हैं लेकिन रहाणे, रोहित या मुरली विजय को अभी चार या पांच ही हुए हैं। मैं उन्हें अभी थोड़ा अधिक समय देता और फिर उनकी तुलना करता। मेरी पीढ़ी की मुख्य विशेषता यह थी कि उस समय सहवाग, द्रविड़, सचिन, लक्ष्मण, गांगुली, हरभजन, कुंबले जैसे खिलाड़ी थे। वे 100 से अधिक टेस्ट मैच खेल चुके थे जो यह दर्शाता है कि वे बेहतरीन खिलाड़ी थे।” उन्होंने कहा, “एक स्तर पर लंबे समय तक खेलने से पता चलता है कि आप कितने अच्छे खिलाड़ी हैं। एक बार यह लड़के उस स्तर तक पहुंच जाएं तो तुलना करना आसान हो जाएगा।”

अन्य खिलाड़ियों पर से दबाव घटाने में मदद करती है विराट की आक्रामकता
वहीँ विराट की आक्रामकता पर गांगुली ने कहा टीम के मौजूदा कप्तान विराट कोहली की आक्रामकता अन्य खिलाड़ियों पर से दबाव घटाने में मदद करती है और भारतीय टीम भाग्यशाली है कि उसके पास कोहली और महेंद्र सिंह धोनी जैसे कप्तान हैं। सीएनएन-न्यूज 18 ने गांगुली के हवाले से बताया, “मैं समझता हूं कि कोहली और धोनी दो अलग तरह के इंसान हैं। कोहली काफी आक्रामक है और मैं भी ऐसा हीे था लेकिन कोहली शायद इसे एक कदम आगे ले गए हैं। मुझे पता करना होगा कि विकेट के बाद वह किसकी तरफ मुक्का दिखाते हैं।”

धोनी शांत रहते है इससे किसी के उपर का दवाब नहीं बनता
गांगुली ने कहा, “धोनी काफी शांत रहते हैं और इससे किसी के उपर का दवाब कम नहीं होता। विराट कोहली के लिए यह दूसरों पर से दबाव कम करने का तरीका है और मैं भी ऐसा ही करता था जबकि धोनी दबाव सोख लेते हैं। इसलिए हर कप्तान अलग होता है और समझता हूं कि भारतीय टीम बहुत ही खुशनशीब है कि उनके पास कोहली और धोनी जैसी दो अलग-अलग कप्तान हैं। “सौरव गांगुली ने विराट के प्रदर्शन पर कहा, “विराट अपनी जिंदगी की सबसे अच्छी फॉर्म में है। मैं समझता हूं कि जिस तरह से वह खेल रहे हैं, वह इस समय विश्व के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज हैं। मेरे मन में उनके लिए काफी सम्मान है और मुझे विश्वास है कि वह भारतीय क्रिकेट को एक नए स्तर पर ले जाएंगे।”

Facebook Comments