Breaking : उर्जित पटेल ने दिया गर्वनर पद से इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवाला

भारतीय रिजर्व बैंक यानी RBI के गर्वनर उर्जित पटेल ने इस्तीफा दे दिया है। अपने इस्तीफे के पीछे उर्जित पटेल ने अपने निजी कारणों को बताया। उर्जित पटेल ने कहा कि आरबीआई में सफलता के पीछे कर्मचारियों और बोड की मेहनत हैं। मेरे लिए आरबीआई में काम करना बेहद सम्मान की बात है, लेकिन मैं अपने निजी कारणों के वजह से गर्वनर पद से इस्तीफा दे रहा हूं। आपको बता दें कि उर्जित पटेल ने सितंबर 2016 में गर्वनर का पद संभाला था।

गौरतलब हैं कि रिजर्व बैंक और सरकार के बीच पिछले कुछ समय से तनानती चल रही थी। सरकार के सेक्शन 7 के उपयोग करने को लेकर ये विवाद चल रही था। उर्जित पटेल के इस्तीफे की बात पहले भी सामने आई थी तब सरकार ने बयान जारी कर कहा कि रिजर्व बैंक स्वायत्तता रिजर्व बैंक के एक्ट के तहत जरूरी है। उर्जित पटेल ने कहा है कि उन्होने निजी कारणों से इस्तीफा दिया है। उर्जित पटेल ने अपने पद से तुरंत इस्तीफा दे दिया है।

आपको बता दें कि साल 2016 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के 24 वें गवर्नर के रूप में डॉ. उर्जित पटेल का नाम सरकार द्वारा घोषित किया गया था। उर्जित पटेल का कार्यकाल सितंबर 2019 में खत्म होने वाला था। बात अगर इनके जीवन की कि जाये तो उर्जित पटेल का जन्म 28 अक्टूबर 1963 को केन्या में हुआ था। स्कूली शिक्षा भी केन्या में ही हुई। उर्जित का पैतृक गांव खेड़ा जिले का महुधा है। वे जब 5 वर्ष के थे, तब परिवार के साथ महुधा आए थे। उनके पिता रविंद्र पटेल केन्या में बिजनेसमैन थे।

वहीं, परिवार के अन्य सदस्य मुंबई में रहते हैं। उर्जित पटेल के पिता रविंद्र भाई केन्या चले गए थे, लेकिन उर्जित के चाचा नारण भाई महुधा में ही रहे। महुधा में यह घर 1907 में बना था, तब से वैसा का वैसा ही है। इस समय इस घर में उर्जित के चाचा के बेटे जगदीशभाई पत्नी उषाबेन और बेटे भाविन के साथ रहते हैं। इस बारे में जगदीशभाई बताते हैं कि उनके दादा परषोत्तम भाई पटेल नागपुर में रेत का बिजनेस करते थे। उर्जित पटेल के पिता रविंद्र भाई को इस बिजनेस में दिलचस्पी नहीं थी। इसलिए वे पत्नी मंजुला के साथ केन्या चले गए। उर्जित का जन्म वहीं हुआ।

Facebook Comments