ओलावृष्टि से फसलों मेें हुए नुकसान के आकलन के लिए विशेष गिरदावरी के निर्देश जारी : कटारिया

आपदा एवं राहत मंत्री गुलाबचंद कटारिया ने सोमवार को विधानसभा में कहा कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे द्वारा 4 मार्च को ही ओलावृष्टि से फसलों मेें हुए नुकसान के आकलन के लिए विशेष गिरदावरी के निर्देश जारी किये, जिसकी अनुपालना में राजस्व विभाग द्वारा फसलों की विशेष गिरदावरी के लिये 5 मार्च को आदेश प्रसारित कर दिये हैं। इससे फसलों के खराबे की वास्तविक स्थिति की जानकारी हो सकेगी और इसके आधार पर आपदा एवं राहत विभाग निश्चित रूप से सहायता करेगा।

आपदा एवं राहत मंत्री ने इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए कहा कि जिला अलवर में 5 तहसीलों के 39 गांवों में लगभग 5 से 15 मि.मी. वर्षा के साथ ओले गिरे, जिससे फसलों में नुकसान होने की आशंका है। जान-माल की क्षति के संबंध में अभी तक कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है।

कटारिया ने कहा कि जिला भरतपुर में 3 तहसीलों के 28 गांवों में लगभग 7 से 9 मि.मी. वर्षा के साथ ओले गिरे हैं, जिससे फसलों में खराबा होने की सूचना प्राप्त हुई है। जान-माल की क्षति के संबंध में अभी तक कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है।

उन्होंने कहा कि नागौर जिले में 3 तहसीलों के 38 गांवों में लगभग 3 से 6 मि.मी. वर्षा के साथ ओले गिरने से फसलों में खराबा होने की सूचना प्राप्त हुई है। जान-माल की क्षति के संबंध में अभी तक कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है।  इसी प्रकार सीकर जिले में 6 तहसीलों के 65 गांवों में लगभग 6 मि.मी. वर्षाके साथ ओले गिरने की सूचना प्राप्त हुई है, जिससे फसलों में खराबे के सूचना प्राप्त हुई है। जान-माल की क्षति के संबंध में अभी तक कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है।

आपदा एवं राहत मंत्री ने बताया कि इस प्रकार अब तक प्राप्त सूचना के अनुसार राज्य के 4 जिलों की 17 तहसीलों के 180 गांव में ओलावृष्टि हुई हैै।कटारिया ने कहा कि जयपुर जिले में भी कुछ स्थानों पर लगभग 5 मि.मी. वर्षा के साथ मामूली ओलावृष्टि की सूचना प्राप्त हुई है, परन्तु फसलों एवं जानमाल की क्षति की कोई सूचना अभी तक प्राप्त नहीं हुई है। जिला चूरू, बीकानेर, झुन्झुनूं आदि में वर्षा हुई है, परन्तु ओलावृष्टि की सूचना नहीं है।

Facebook Comments