आंख खुलने से पहले ही मां ने छीन ली जिंदगी, पैदा होने के डेढ़ घंटे बाद नाक मुंह दबाकर ले ली जान

 उसे पैदा हुए अभी बस डेढ़ घंटे ही हुए थे। उसके हाथ पूरी तरह लाल थे…सिर पर बस दो चार बाल थे, आंखें बंद थी…. अभी तक उसने आंख भी नहीं खोली थी कि उसकी मां ने उसकी आंखें हमेशा के लिए बंद कर दी। क्योंकि वो बेटी थी… मतलब लड़की थी…

दिल्ली से झकझोर कर रख देने वाली घटना सामने आई है। यहां एक महिला ने मां की छवि को पूरी तरह से धूमिल कर दिया है। मां ने बेटे की चाह में ऐसा भयानक कदम उठाया है जिसे सोचकर भी आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे।

बेटे की चाह में एक मां ने अपनी ही नवजात बेटी का डेढ़ घंटे बाद गला घोंट दिया। सुनकर आप भी दहल गए ना। दरअसल, रीटा नाम की महिला को बेटे की चाह थी, लेकिन जब बेटी पैदा हुई, तो उससे ये बर्दाश्त नहीं हुआ। करीब डेढ़ घंटे बाद ही उसने अस्पताल में ही नाक और मुंह दबाकर नन्ही सी जान की जान ले ली। अफसोस की उस नन्ही सी जान की आंख तक नहीं खुली थी।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा होने पर पुलिस ने महिला के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। हालांकि गिरफ्तारी के बाद महिला ने अपना गुनाह कबूल भी कर लिया। महिला ने बताया कि उसके पहले से ही दो बेटी हैं, और एक बेटा भी, लेकिन उसे अब एक और बेटी नहीं चाहिए थी।

नारायणा की रहने वाली रीटा को प्रसव के लिए 28 जुलाई को बसईदारापुर स्थित ईएसआई अस्पताल ले जाया गया। 29 जुलाई की देर रात महिला ने बेटी को जन्म दिया, लेकिन उसे उसके जन्म से कोई खुशी नहीं हुई। करीब डेढ़ घंटे बाद महिला नर्सिंग स्टाफ के पास पहुंची और बताया कि बच्ची में कोई हलचल नहीं हो रही है। नर्सिंग स्टाफ ने बच्ची की नाक लाल देखी। बच्ची की नाक लाल देखते ही उन्हें शक हुआ। तुरंत बच्ची को चेकअप के लिए ले जाया गया। लाख कोशिशों के बाद भी डॉक्टर बच्ची को बचा नहीं पाए।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ कि बच्ची की जान दम घुटने की वजह से गई है। पुलिस ने बच्ची की मां को शक के आधार पर हिरासत में लेकर पूछताछ की, तो महिला ने अपना अपराध कबूल कर लिया। उसने बताया कि उसकी दो बेटियां और एक बेटा है। किसी को शक न हो, इसलिए खुद ही नर्सिंग स्टाफ को बताया कि बच्ची में कोई हलचल नहीं हो रही है। पुलिस महिला को गिरफ्तार कर जांच में जुटी है।

 

Facebook Comments