इस तरह खोलें खुद का पेट्रोल पंप,कमाएं लाखों….

पेट्रोल पंप कोई भी भारतीय नागरिक खोल सकता है, बस जरूरत है सही दिशा की। अक्सर लोग पेट्रोल पंप खोलने के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी भी कर बैठते हैं। आधी- अधूरी जानकारी के कारण कई बार ऐसे ठगों का शिकार भी बन जाते हैं। लेकिन आज हम आपको पूरा प्रोसेस बताने जा रहे हैं, ताकि आप किसी भी तरह की धोखाधड़ी से बच सकें।

भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतें पिछले कई सालों से लगातार उछाल मार रही हैं। हाल ये है कि आम आदमी की जेब ढीली होती जा रही है, जबकि सरकार, पेट्रोल कंपनियों और पेट्रोल पंप मालिकों की जेबें लगातार भरती जा रही हैं।

तो चलिए शुरु करते हैं और बताते हैं कि आप खुद का पेट्रोल पंप कैसे खोल सकते हैं। खैर, इससे पहले हम आपको बता दें कि पेट्रोल पंप डीलर को एक लीटर पेट्रोल या डीजल बेचने पर 2.5 से 3 रुपए का कमिशन मिलता है। आमतौर पर एक पेट्रोल पंप में हर दिन 4-5 हजार लीटर पेट्रोल बेचा जाता है। इस लिहाज से हर दिन की कमाई 15 हजार रुपए तक हो सकती है। वहीं डीजल पर भी 2 से 2.5 रुपए तक का कमिशन मिलता है और लगभग पेट्रोल के बराबर ही डीजल की भी दिनभर में बिक्री होती है।

 

कोई भी व्यक्ति पेट्रोल पंप की डीलरशिप ले सकता है। इसकी एक तय प्रक्रिया है, जिसे पूरा करना होता है। आज हम इसी बारे में आपको बता रहे हैं। फेडरेशन ऑफ मप्र पेट्रोल-डीलर एसोसिएशन वॉइस प्रेसीडेंट पारस जैन के मुताबिक, पेट्रोल पंप की डीलरशिप लेने की प्रॉसेस अब ऑनलाइन हो चुकी है।

तेल कंपनियां अपनी जरूरत के हिसाब से पेट्रोल पंप खोलती हैं। जिस भी इलाके में कंपनी को पेट्रोल पंप खोलना होता है, वहां का विज्ञापन अखबार में जारी किया जाता है। इसमें सभी नियम, शर्तों का उल्लेख होता है। इन नियमों को पूरा करने वाला कोई भी व्यक्ति संबंधित कंपनी की वेबसाइट पर डीलरशिप के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर सकता है। इसके बाद कंपनी के अधिकारी निरीक्षण करते हैं। पेट्रोलियम मंत्रालय पेट्रोल पंप खोलने पर पाबंदी लगा सकता है। मंत्रालय से हरी झंडी मिलने के बाद ही कंपनियां विज्ञापन जारी कर सकती हैं।

क्या-क्या चीजें हैं जरूरी: पेट्रोल पंप खोलने के लिए सबसे पहली जरूरत जमीन की होती है। स्टेट या नेशनल हाइवे पर कम से कम 1200 से 1600 वर्गमीटर जमीन होना चाहिए। वहीं शहरी क्षेत्र में पेट्रोल पंप खोल रहे हैं तो कम से कम 800 वर्गमीटर जगह होना जरूरी है। यदि खुद के नाम पर जमीन नहीं है तो लीज पर भी जमीन ली जा सकती है। इसके कागजात कंपनी को दिखाना होंगे। परिवार के किसी सदस्य के नाम पर भी जमीन है, तब भी पेट्रोल पंप की डीलरशिप के लिए अप्लाई किया जा सकता है।

इसके अलावा अगर खेती की जमीन है तो उसका कन्वर्जन करवाना होता है। प्रॉपर्टी के नक्शे सहित जमीन से जुड़े सभी कागजात, एनओसी कंपनी अधिकारी निरीक्षण के दौरान देखते हैं। पेट्रोल पंप की डीलरशिप वही व्यक्ति ले सकता है, जिसकी उम्र 21 से 60 साल के बीच हो। संबंधित व्यक्ति का कम से कम 10वीं पास होना भी जरूरी है।

सिक्युरिटी मनी : पेट्रोल पंप खोलने के लिए संबंधित तेल कंपनी को सुरक्षा राशि देनी होती है। यह राशि 25 लाख रुपए होती है। इसके बाद दूसरे खर्चे होते हैं। जैसे पेट्रोल पंप तक कच्ची सड़क का निर्माण, बाउंड्रीवॉल, एनओसी का खर्चा, नापतौल, खाद्य विभाग का लाइसेंस भी लेना होता है। बिजली, पानी के इंतजाम के साथ ही केबिन का निर्माण करवाना होता है। इसमें 1 करोड़ रुपए तक का इन्वेस्टमेंट हो सकता है।  भारत में अभी 3 सरकारी और 2 प्राइवेट कंपनियां काम कर रही हैं। इसके अलावा कुछ कंपनियां भी हैं, जिनका काम अभी शुरू हो रहा है। देशभर में करीब 50 हजार पेट्रोल पंप हैं।

 

Facebook Comments