गुरूग्राम में जल्द ही दौड़ेंगी पॉड टैक्सी….

तीन कंपनियों की तरफ से जमा कराई गई इन बिंडों के फाइनल होने के बाद प्रॉजेक्ट पर काम शुरू हो जाएगा। काम शुरू होने के एक साल के अंदर इसे पूरा किया जाना है। शुरुआत में दिल्ली-गुड़गांव बॉर्डर से शहर में करीब 12 किमी तक रूट व स्टेशन बनाने पर पायलट प्रॉजेक्ट के तहत काम शुरू होगा। इसके लिए स्टेशन भी चिह्नित कर लिए गए हैं। हालांकि, पॉड टैक्सी का पूरा प्रॉजेक्ट दिल्ली के धौलाकुआं से मानेसर तक निर्धारित किया गया है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि दिल्ली के धौलाकुआं से मानेसर तक पॉड टैक्सी चलाने का कार्य भी अगले डेढ़ महीने में शुरू हो जाएगा। यह उनका ड्रीम प्रॉजेक्ट है। हवा में टैक्सी के आने जाने की सुविधा लोगों को मिलेगी तो सड़क पर जाम कम लगेगा। साथ ही उन्होंने लोगों द्वारा अपनी व्यक्तिगत गाड़ी के प्रयोग की बजाय पब्लिक ट्रांसपोर्ट का प्रयोग करने को प्रोत्साहन देने की बात कही थी।

दिल्ली-गुड़गांव बॉर्डर से शहर के राजीव चौक पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी मोड) पर 12.30 किमी एरिया में पॉड टैक्सी का दिल्ली-गुड़गांव पायलट कॉरिडोर तैयार होना है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इस प्रॉजेक्ट को पर्सनल रैपिड ट्रांजिट (पीआरटी) नाम दिया था। इस पर करीब 4 हजार करोड़ रुपये खर्च होने हैं।

पीआरटी के तहत ऑटोमैटिड इलेक्ट्रिक पॉड कार चलेंगी, जो टैक्सी की तरह होंगी। यह बिना किसी अवरोध के प्रदूषण रहित तकनीक बताई जा रही है। एनएचएआई के एक अधिकारी के अनुसार, पीआरटी कार स्वच्छ, प्रदूषण रहित, लोगों की जेब पर भार न डालने वाली सर्विस होगी। एनएचएआई सूत्रों का कहना है कि पहले साल में 800 से 1100 पीआरटी कार चलाने की योजना है, जिससे एक घंटे में 38 हजार लोगों सफर कर सकेंगे।

 

शुरुआत में पॉड टैक्सी के स्टेशन उद्योग विहार, साइबर सिटी, श्याम चौक, एटलस, चौक, सेक्टर-25 इफको चौक, सिग्नेचर टावर, सेक्टर-31, झाड़सा चौक, राजीव चौक, ताऊ देवीलाल स्टेडियम, सेक्टर-38, सेक्टर-47 होंगे।

Facebook Comments