पुलिस से बोली महिला- साहेब! मेरे पति की उम्र 14 साल है.. ससुर रोज इसी बात का फायदा उठाता है

झाबुआ जिले के मेघनगर में एक लड़की को अंधेरे में रखकर 14 साल के एक नाबालिग लड़के से शादी करवाने का मामला सामने आया है। जब वह ससुराल पहुंची तो इसका खुलासा हुआ। वह इसे किस्मत का खेल समझ ससुराल में रहने लगी।

कुछ समय बाद ससुर अपनी पत्नी की मौन सहमति से बहू पर संबंध बनाने के लिए दबाव डालने लगा। इसके लिए उसने कई बार प्रयास किए, लेकिन हर बार युवती ने किसी तरह खुद को बचा लिया। जब पानी सिर के ऊपर चला गया तो वह पुलिस के पास पहुंची। उसने गुज्जरपाड़ा निवासी अपने ससुर, सास और अपने नाबालिग पति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने फिलहाल ससुर के खिलाफ धारा 354 में प्रकरण दर्ज किया है।

ससुर, पति और सास के खिलाफ केस दर्ज कराने थाने पहुंची महिला

 

मैं 12वीं तक पढ़ी हूं और इसी साल मार्च में मेरी शादी समाज की परंपरा के उलट रात एक बजे की गई। शादी में बहुत कम लोग आए थे। परंपरा अनुसार दूल्हे का चेहरा ढंका हुआ था। जब मैं ससुराल पहुंची और पति के बारे में पूछा तो एक 14 साल के बच्चे की तरफ इशारा कर बताया गया कि यह तेरा पति है। जब मैंने ने अपने मां-बाप को ये बताया तो उन्होंने इसे तकदीर का खेल समझकर ससुराल में ही रहने के लिए कहा।

महिला की कहानी सुनकर हैरान रह गई थी पुलिस

 

उन्होंने कहा कि कुछ सालों में उसका नाबालिग पति व्यस्क हो जाएगा। उनके कहने पर मैं ससुराल में रहने को तैयार हो गई। कुछ दिनों बाद मेरे ससुर की नीयत खराब हो गई। वह हर समय मुझे गलत तरीके से छूने की कोशिश करने लगा।  एक दिन मेरे रूम में आकर गलत हरकत करते हुए संबंध बनाने के लिए बोला। जैसे-तैसे मैंने खुद को बचाया।  ससुर की हरकत के बारे में मैंने पति को बताया तो उसने मुझ पर आरोप लगाते हुए कहा कि तू खुद ही उकसाने वाली हरकत करती होगी।

सास भी चाहती थी कि ससुर से संबंध रखे महिला

ससुर ने दोबारा गलत हरकत करने की कोशिश की तो मैंने अपनी सास को बताया, लेकिन उन्होंने पति का विरोध नहीं किया। सास ने कहा कि हम दापा (वर पक्ष द्वारा शादी के समय वधू पक्ष को दी जाने वाली रकम) देकर लाए हैं इसलिए उनका भी तुझ पर हक बनता है। तू चुपचाप रह और वह जैसा कहे वैसा कर। सास और पति के इस रुख से परेशान होकर मैं अपने मायके चली गई।

ससुर जबरन संबंध बनाने के लिए करता था मजबूर

 

इसके बाद गांव में पंचायत बैठी, जिसमें ससुर ने सबके सामने कहा था कि मैं अपनी बहू के साथ कोई गलत हरकत नहीं करूंगा।  इसके बाद मैं फिर से ससुराल गई, लेकिन 30 अक्टूबर को ससुर ने फिर मेरी इज्जत पर हाथ डाला। इसके बाद मैं ससुराल से भागकर पुलिस के पास पहुंची और ससुर, सास व नाबालिग पति के खिलाफ शिकायत की।

ससुर के चंगुल से कईं बार बची महिला

पीड़िता के ससुर ने भी मेघनगर थाने में अपनी बहू और उसके पिता व भाई के खिलाफ शिकायत की है कि दापे की रकम लेने के बहाने उन्होंने आकर मेरे घर का एक हिस्सा जला दिया। उसने यह बात मानी है कि उसका बेटा नाबालिग है, लेकिन बहू की आबरू लूटने के प्रयास के आरोप को उसने गलत बताया है। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। यह भी संभावना है कि वह अपनी बहू के आरोपों से बचने के लिए खुद ही घर में आग लगा ली हो और फिर उसके साथ उसके पिता व भाई के खिलाफ शिकायत की हो।

 

Facebook Comments